मेघालय के पूर्व जयंतिया हिल्स के खलाइरियात से सकुशल बरामद हुई तीन वर्षीय सुभमिता राय चौधरी उर्फ तृषा शनिवार की देर रात पुलिस की भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच अपने घर सिलचर पहुंच गई।

मेधालय से रात करीब 12.15 बजे तृषा अपने माता-पिता के साथ सिलचर थाने पहुंची, जहां नन्हीं बच्ची का स्वागत असम पुलिस के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक(कानून व्यवस्था) मुकेश अग्रवाल ने चॉकलेट देकर किया।

इस दौरान बच्ची के माता-पिता ने असम व मेघालय पुलिस, मीडिया के अलावा अपने तमाम शुभचिंतकों को धन्यवाद दिया। जिन लोगों ने बच्ची के अपहरण के बाद उसे ढूंढ़ने के लिए सड़क से लेकर सोशल मीडिया पर जबर्दस्त अभियान छेड़ दिया था। 

बच्ची के सिलचर पहुंचने के बाद एडीजीपी अग्रवाल ने पत्रकार सम्मेलन आयोजित किया। अग्रवाल ने कहा कि अपहरण के बाद से पुलिस की प्राथमिकता सबसे पहले बच्ची को सकुशल बरामद करने की थी। जिसमें उन्हें सफलता भी मिली।

उन्होंने कहा कि पुलिस के बढ़ते दबाव के चलते अपहरणकर्ताओं को बाध्य होकर बच्ची को छोड़ना पड़ा। क्योंकि पुलिस ने उनके निकलने के सारे रास्ते बंद कर दिए थे। ऐसे में अपहरणकर्ताओं के पास अपनी जान बचाने व बच्ची को छोड़ने के अलावा और कोई विकल्प मौजूद नहीं था।

अग्रवाल ने कहा कि पुलिस अपनी पहली रणनीति में कामयाब हो गई बच्ची को सकुशल उसके माता-पित के गोद में पहुंचा दिया गया। अब पुलिस उन अपहरणकर्ताओं की तलाश में अभियान छेड़े हुए है। इस दौरान सिलचर के पुलिस अधीक्षक राकेश रोशन सहित तमाम पुलिस अधिकारी मौजूद थे। जिन लोगों ने पिछले पांच दिनों से बच्ची की सकुशल बरामदगी के लिए दिन-रात एक किए हुए थे।