नरेन्द्र मोदी ने 'खेलो इंडिया' की मेजबानी के लिए असम सरकार और प्रदेश के लोगों को बधाई दी और इसमें 56 रिकॉर्ड तोड़ने वाली लड़कियों को शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि हमने 'खेलों इंडिया' युवा खेल की तर्ज पर ही हर वर्ष ''खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स' भी आयोजित करने का निर्णय लिया है।


प्रधानमंत्री ने 'मन की बात' कार्यक्रम में अपने संबोधन में कहा कि मैं असम की सरकार और असम के लोगों को 'खेलो इंडिया की शानदार मेज़बानी के लिए बहुत-बहुत बधाई देता हूं। 22 जनवरी को ही गुवाहाटी में तीसरे 'खेलो इंडिया प्रतियोगिता' का समापन हुआ है। इसमें विभिन्न राज्यों के लगभग छह हज़ार खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया। उन्होंने कहा कि खेलों के इस महोत्सव के अंदर 80 रिकॉर्ड टूटे और मुझे गर्व है कि जिनमें से 56 रिकॉर्ड तोड़ने का काम हमारी बेटियों ने किया है। ये सिद्धि, बेटियों के नाम हुई है।


पीएम मोदी ने कहा कि मैं आपको बताना चाहता हूं, कि 2018 में, जब 'खेलो इंडिया प्रतियोगिता की शुरुआत हुई थी, तब इसमें 3500 खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया था, लेकिन महज तीन वर्षों में खिलाड़ियों की संख्या छह हजार से अधिक हो गई है, यानि करीब-करीब दोगुनी। उन्होंने कहा कि इतना ही नहीं, सिर्फ तीन वर्षों में 'खेलो इंडिया प्रतियोगिता' के माध्मय से, 3200 प्रतिभाशाली बच्चे उभर कर सामने आये हैं। इनमें से कई बच्चे ऐसे हैं जो अभाव और गरीबी के बीच पले-बढ़े हैं।

अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज : https://twitter.com/dailynews360