उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य (Keshav Prasad Maurya) ने रविवार को समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav)  पर तंज कसते हुए कहा कि अखिलेश जी, 2022  में होने वाले विधानसभा चुनाव में सपा के लिए कुछ नहीं बचा है, इसलिए 2027 के लिए तैयारी कीजिए. रविवार को कानपुर की जनविश्वास यात्रा में मौर्य ने कहा कि अब अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) को मान लेना चाहिए कि 2022 के विधानसभा चुनाव में सपा के लिए कुछ नहीं बचा है, अगर उनमें थोड़ी बहुत हिम्मत है तो 2027 के लिए तैयारी शुरू कर देनी चाहिए.

उत्तर प्रदेश में निकट भविष्य में होने वाले विधानसभा चुनाव में जनता का विश्वास अर्जित करने के इरादे से भारतीय जनता पार्टी ने राज्य के छह क्षेत्रों से जन विश्वास यात्रा शुरू की जिसका मार्ग प्रदेश की सभी 403 विधानसभा क्षेत्रों से पार्टी ने निर्धारित किया. बीजेपी ने राज्य के छह क्षेत्रों से 19 दिसंबर को जन विश्वास यात्रा शुरू की जिसमें पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने अंबेडकर नगर से यात्रा को रवाना किया. इसके अलावा उत्तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ (Uttar Pradesh Chief Minister Yogi Adityanath)  ने मथुरा, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने झांसी, केंद्रीय परिवहन व राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने बिजनौर, मध्‍यप्रदेश के मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) ने बलिया और केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने गाजीपुर में यात्रा को हरी झंडी दिखाई और जनसभा को संबोधित किया था.

 

कानपुर में आयोजित रोड शो एवं जन सभा में मौर्य (Keshav Prasad Maurya ) ने कहा 2014 से बीजेपी की विजय यात्रा शुरू हुई थी तब से बीजेपी की प्रचंड जीत हो रही है. 2019 में सारे बीजेपी विरोधी एक हो गए तब भी भारतीय जनता पार्टी को उत्तर प्रदेश में लोकसभा की 64 सीटें मिली और 51 फीसदी वोट देकर जनता ने मोदी जी को प्रधानमंत्री बनाया. बीजेपी मुख्यालय से जारी बयान के अनुसार मौर्य ने कहा कि अगर जनता ने मोदी को प्रधानमंत्री नहीं बनाया होता तो अयोध्या में क्या रामलला का भव्य मंदिर बन रहा होता, अगर नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री नहीं बनाया होता तो क्या जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटता. मोदी की उपलब्धियां गिनाते हुए उपमुख्यमंत्री ने दावा किया कि भारतीय जनता पार्टी 300 से अधिक सीटें जीतने जा रही है.