कांग्रेस ने केरल और असम विधानसभा चुनाव परिणामों को उम्मीद के विपरीत बताते हुए कहा है कि पार्टी को इन राज्यों में किस वजह से हार मिली है इसके कारणों पर गंभीरता से विचार किया जाएगा। कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला ने रविवार को यहां वर्चुअल माध्यम से आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा, इन चुनावों में असम और केरल विधानसभा के चुनाव परिणाम हमारे लिए चुनौतीपूर्ण भी हैं और आशा के विपरीत भी। हम चुनाव हारे हैं, पर न ही हिम्मत हारी, न मनोबल खोया और न ही आगे बढ़ते रहने का संकल्प। 

कांग्रेस चुनाव परिणामों का पार्टी मंच पर विधानसभावार विश्लेषण करेगी और जहां जो भी कमियां रही है, भविष्य के लिए उनमें सुधार कर हम और गंभीरता से काम करेंगे। उन्होंने कहा कि इन दोनों राज्यों में कांग्रेस कार्यकर्ताओं और नेताओं ने मिलकर धरातल पर कड़ी मेहनत की, पर जनता का मत फिर भी हमारे पक्ष में नहीं रहा। पूरे देश और खास तौर से जिन राज्यों में चुनाव हुए, वहां की जनता के साथ हमारा रिश्ता केवल राजनैतिक नहीं बल्कि आत्मिक है। पार्टी इस रिश्ते में और अधिक विश्वास तथा अपनापन पैदा करने के लिए कड़ी मेहनत करेगी। दोनों ही राज्यों में पार्टी एक जिम्मेदार  विपक्ष के रूप में जनता की समस्याओं को सदन में भी और सदन के बाहर भी पूरी ताकत से उठाएगी। प्रवक्ता ने असम में भारतीय जनता पार्टी और मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल तथा केरल में एलडीएफ और मुख्यमंत्री पिनराई को जीत की शुभकामनाएं दीं और उम्मीद जतायी कि वे न केवल अपने चुनावी वादों पर खरा उतरेंगे, बल्कि महामारी के इस माहौल में हर जीवन की रक्षा हेतु अपनी सरकार की पूरी ताकत लगाएंगे।