दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल वर्ल्ड सिटीज कल्चर फोरम (विश्व शहर सांस्कृतिक मंच) में दिल्ली और भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। हाल ही में, लंदन के मेयर द्वारा सीएम अरविंद केजरीवाल को वर्ल्ड सिटीज कल्चर फोरम में दिल्ली का प्रतिनिधित्व करने के लिए निमंत्रित किया गया था, जिसे उन्होंने स्वीकार कर लिया है। इस दौरान सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि, उनका लक्ष्य संस्कृति के क्षेत्र में दिल्ली को विश्व नेता और कलाकार के अनुकूल शहर में बदलना है।

फोरम में लंदन, टोक्यो और न्यूयॉर्क सहित दुनिया भर के 40 शहर शामिल हैं, जिनमें से सभी संस्कृति और रचनात्मकता के प्रभाव और महत्व को पहचानते हैं। साथ ही, सार्वजनिक नीति व शहरी नियोजन में इन मूल्यों को शामिल करना चाहते हैं।संस्कृति के डिप्टी मेयर्स और सदस्य शहरों से संस्कृति के प्रमुखों द्वारा भाग लिया जाने वाला वार्षिक शिखर सम्मेलन, फोरम की गतिविधि के केंद्र में है। दिल्ली विश्व के शहरी संस्कृति रिपोर्ट का भी हिस्सा होगी, जो शहरों में संस्कृति पर सबसे व्यापक वैश्विक डेटासेट है।

इस वर्ष की थीम ‘द फ्यूचर ऑफ कल्चर’ है, जो विशेष रूप से पिछले एक वर्ष में लोगों के सामने आई कई विनाशकारी चुनौतियों और कोरोना संकट के मद्देनजर दिल्ली की संस्कृति को एक बार स्थापित करने में अहम भूमिका निभाएगी। लंदन के मेयर सादिक खान से मिले निमंत्रण पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि, फ्यूचर ऑफ कल्चर’ निश्चित रूप से इस चुनौतीपूर्ण दौर में प्रासंगिक विषय है। जैसा कि अभी दुनिया भर के लोगों ने अलगाव में संघर्ष किया है, यह कला और संगीत ही रहा है, जिसने हमें जुड़े रहने और संकट से निपटने में मदद की है।

‘‘रचनात्मकता और साझाकरण ने लचीलापन के साथ कोविड-19 से निपटने के लिए उम्मीद और शक्ति प्रदान की है। महामारी की दुर्भाग्यपूर्ण परिस्थितियों ने सांस्कृतिक अभ्यास के तरीकों को फिर से स्थापित करने के लिए नई चुनौतियां और संभावनाएं पेश की हैं। जब हम वापसी की ओर बढ़ रहे हैं, कला और संस्कृति जीवन और समाज के पुननिर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे।’’ उन्होंने आगे कहा कि, ‘‘एक ऐतिहासिक राजधानी के रूप में विविध कलाओं और विरासत को अपने आप में समेटे दिल्ली हमारी समृद्ध संस्कृति को बढ़ावा देने और उसे संरक्षित करने में सबसे आगे रही है। हमारी सरकार शहर को बेहतर आकार देने और संस्कृति को सकारात्मक रूप से प्रभावित करने के लिए संस्कृति भूमिका निभाने में ²ढ़ता से विश्वास करती है।’’

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया कला, संस्कृति और भाषा मंत्री भी हैं और वह कुछ असाधारण पहलों पर काम भी कर रहे हैं। उपमुख्यमंत्री के नेतृत्व में दिल्ली की कला और संस्कृति टीम राजधानी के सांस्कृतिक परि²श्य को बदलने, ज्ञान का लोकतंत्रीकरण करने, सांस्कृतिक क्षेत्र का आधुनिकीकरण करने और सरकारी खर्च का विकेंद्रीकरण करने के लिए कार्यक्रम शुरू करने पर काम कर रही है।