दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज कोरोना योद्धा दिवंगत शिवजी मिश्रा के परिजनों से मुलाकात की और उन्हें एक करोड़ रुपए की सहायता राशि का चेक सौंपा। केजरीवाल ने कहा कि शिवजी कल्याणवासी स्थित आरएसबीवी में शिक्षक थे। वह मेहनती और कर्मठ शिक्षक थे। 

उन्होंने अपनी अंतिम सांस तक लोगों की सेवा की। हम उनकी कमी को पूरा तो नहीं कर सकते, लेकिन मुझे उम्मीद है कि इस आर्थिक मदद से उनके परिवार को थोड़ी मदद मिलेगी। हम दिल्ली सरकार में उनके बेटे को नौकरी भी देंगे। मुख्यमंत्री ने शिवजी के घर जाकर उनके परिजनों से मुलाकात की और दिल्ली सरकार की तरफ से उनके परिजनों को एक करोड़ रुपए की सहायता राशि का चेक सौंपा। इस दौरान उन्होंने परिवार के सदस्यों को बातचीत कर ढांढस भी बढ़ाया और भविष्य में जरूरत पडऩे पर हर संभव मदद करने का आश्वासन दिया। 

कोरोना काल के दौरान उनकी ड्यूटी लगी थी और उसी दौरान वे कोरोना से संक्रमित हो गए थे और कोरोना की वजह से उनकी मौत हो गई। उन्होंने कहा , शिवजी की मृत्यु की वजह से उनके परिवार पर जो गुजर रही है, उसे मैं समझ सकता हूं। हम उनकी कमी को तो पूरा नहीं कर सकते हैं। आज मैंने दिल्ली सरकार की तरफ से उनके परिवार को एक करोड़ रुपए की सहायता राशि का चेक प्रदान किया है। वह अपने पीछे अपनी पत्नी और दो बच्चों को छोड़ गए हैं। उनका बड़ा बेटा अभी नौकरी की तैयारी कर रहा है। हम दिल्ली सरकार में उनको नौकरी देंगे। परिवार को कभी भी मदद की जरूरत होगी, हम मदद करने का प्रयास करेंगे। परिवार अपने आपको अकेला न समझे। सरकार हमेशा उनके साथ है। 

शिवजी कल्याणवासी स्थित आरएसबीवी में बातौर टीजीटी (अंग्रेजी) तैनात थे। इस स्कूल में प्रवासी मजदूरों की स्क्रीनिंग, उनकी आवाजाही, उन्हें भोजन उपलब्ध कराने और अस्थाई ठहरने (रात्रिभोज) की व्यवस्था की गई थी जहां शिवजी ने ड्यूटी की थी। ड्यूटी के दौरान पिछले साल वह कोरोना से संक्रमित हो गए थे और तबियत बिगड़ने पर उन्हें 04 जून को सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था। सात जून 2020 को उनका निधन हो गया।