दिल्ली में म्यूकोरमाइकोसिस यानी ब्लैक फंगस बीमारी को केजरीवाल सरकार ने महामारी (एपिडेमिक) घोषित कर दिया गया है। दिल्ली में ब्लैक फंगस के मामले तेज़ी से बढ़ रहे हैं। 21 मई को दिल्ली में करीब 200 म्यूकोरमाइकोसिस के मामले थे जबकि गुरुवार 27 मई को 153 नए मामलों की पुष्टि से साथ यह संख्या बढ़कर 773 हो गई है। 

दिल्ली सरकार की तरफ से जारी नोटिफिकेशन के मुताबिक, सभी अस्पताल ब्लैंक फंगस संक्रमण का पता लगाने, जांच और इलाज करने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशानिर्देशों का अनुपालन करेंगे। अस्पताल ब्लैक फंगस के प्रत्येक संदिग्ध और पुष्ट मामलों की जानकारी स्वास्थ्य विभाग को देंगे।

 

बता दें कि ब्लैक फंगस उन लोगों में ज्यादा फैल रहा है जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कोविड, डाइबिटिज, गुर्दे की बीमारी, हृदय रोग, उम्र संबंधी समस्याओं के कारण कम है, साथ ही जो आर्थराइटिस (गठिया) जैसी बीमारियों की वजह से दवाओं का सेवन करते हैं। डॉक्टर्स का कहना है कि अगर ऐसे मरीजों को स्टेरॉयड दी जाती है तो उनकी प्रतिरोधक क्षमता और कम हो जाएगी। इससे फंगस को प्रभावी होने का मौका मिलेगा। ऐसे में डॉक्टर स्टेरॉयड का इस्तेमाल नहीं करने की सलाह दे रहे हैं।