कोरोना के कारण भारत में 21 दिन तक लॉकडाउन लागू हो गया है जिसके कारण यातायात के सारे संसाधन बंद हो गए। जयपुर में पढ़ाई कर रहे कुछ कश्मीरी छात्रों ने राजस्थान सरकार और जम्मु-कश्मीर सरकार से गुहार लगाई है कि लॉकडाउन के कारण छात्रावास बंद हो गए हैं। जिसके चलते उनको काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है, रहने के लिए इधर उधर भटकना पड़ रहा है। 

लेकिन कोरोना के चलते कोई रहने की जगह नहीं दे रहा है। छात्रों से बात करने पर उन्होंने बताया कि पहले वो हवाई यात्रा कर घर जा रहे थे लेकिन जो फ्लाइट जम्मु जानी थी वो कोरोना के कारण गोरियर कंपनी ने सेवा बंद कर दी। जब बाई रोड़ से जाने निर्णय लिया तो जम्मु-कश्मीर सरकार ने सारी बॉर्डर सील कर दी। ट्रेन यात्रा सेवा भी हवाई यात्रा के साथ बंद कर दी गई थी। घर जाने का कोई रास्ता ना मिलने से परेशान छात्रों ने राजस्थान सरकार और जम्मु-कश्मीर सरकार से मदद मांगी है। 

बता दें कि जम्मु-कश्मीर के जयपुर में फंसे हुए 7 छात्र और दो टीचर शामिल हैं। जो घर जाने के लिए दोनों राज्यों की सरकारों से मदद मांग रहें हैं। पूरे देश में लॉकडाउन के कारण इनका घर जाने के रास्ते बंद कर हो गए हैं। छात्रों का रो-रो कर बुरा हाल है। सरकार उनकी मदद कर दे तो वो सुरक्षित अपने घर में रह सकते हैं। कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते उनकी जान को खतरा बना हुआ है। 

पीएम मोदी जी ने भी सभी को 21 दिन तक घर में रहने की अपील की है। लेकिन छात्रों घर अभी नसीब नहीं हो रहा है। जानकारी के लिए बता दें कि दुनिया के 194 देशों में कोरोना वायरस ने अपनी दहशत फैला रखी हैं। इसे खौफ से अब तक 19,101 लोगों की मौत हो चुकी है और 4 लाख 28 हजार 271 संक्रमित हैं।