करोंदा एक देसी फल है, जो आमतौर पर बहुत खट्टा होता है। भारत में करोंदे का उपयोग मसालेदार अचार बनाने के लिए सबसे ज्यादा किया जाता है। भले ही यह फल आकार में छोटा हो, लेकिन स्वास्थ्य के मामलों में यह दवाओं को भी मात दे देता है। इसे खाने से न केवल पाचन क्रिया दुरूस्त होती है, बल्कि प्रतिरक्षा को मजबूत बनाने और तनाव कम करने के लिए बहुत अच्छा माना जाता है। करोंदा का वैज्ञानिक नाम कैरिसा कैरन्डास है, जो बैरी परिवार से संबंधित है। कच्ची अवस्था में यह फल खट्टा और अम्लीय होता है, जबकि पकने पर इस फल में मिठास आ जाती है। आपकी स्वास्थ्य समस्याओं को कम करने में यह अद्भुत तरीके से काम करता है।

पोषक तत्वों से भरपूर है

करोंदा में पोषक तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। इसमें विटामिन सी, विटामिन बी और आयरन से भरपूर होने के कारण यह शरीर से फ्री रेडिकल्स को बाहर निकालता है। इसके अलावा करोंदा फल में फ्लेवेनॉइड्स , एल्कलॉइड्स, टैनिन्स, कैरिसोन और ट्राइटरपीनोइड्स जैसे कई एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, जो एंटी इंफ्लेमेट्री, एंटीपीयरेटिक, कार्डियोटोनिक और एनालजेसिक लक्षणों जैसे लाभ देते हैं।

हृदय की मांसपेशियों को स्ट्रांग बनाए

हृदय स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए करोंदे का रस पीना चाहिए। हृदय की मांसपेशियों को मजबूत करने, हार्ट अटैक और हाई ब्लड प्रेशर जैसे हृदय रोगों के जोखिम को कम करने के साथ साथ शरीर के सभी अंगों में ब्लड सकुर्लेट करने के लिए सप्ताह में दो या तीन बार इस फल के रस का एक गिलास सेवन करना ही चाहिए।


बुखार से राहत दिलाए

फल में पर्याप्त मात्रा में मौजूद विटामिन सी के साथ करोंदा का उपयोग सदियों से बुखार के इलाज के लिए किया जा रहा है। एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होने के कारण यह स्वादिष्ट फल संक्रमण से लडकऱ बुखार को कम करने में मदद करता है। पके या सूखे करोंदे खाने से बुखार को नियंत्रित करने में बहुत मदद मिलती है।

वजन घटाने में मदद करे

इसे अपने आहार में शामिल करने के बाद आपको वेट मेंटेन करने में बहुत आसानी होगी। इसे किसी भी रूप में खाने के बाद पेट काफी देर तक भरा हुआ महसूस होता है। नियमित रूप से इसके जूस का सेवन करने से वजन कम किया जा सकता है।

​एनीमिया में लाभ पहुंचाए

माना जाता है कि करोंदा एनीमिया के रोगियों को बहुत लाभ पहुंचाता है। इतना ही नहीं इम्यूनिटी को बूस्ट करने के लिए भी अक्सर करोंदा खाने की सलाह दी जाती है।


मानसिक स्वास्थ्य में सुधार करे

करोंदा फल का नियमित सेवन किसी के मानसिक स्वास्थ्स में सुधार के लिए फायदेमंद माना जाता है। विटामिन और ट्रिप्टोफैन के साथ मौजूद मैग्रीशियम न्यूरोट्रांसमीटर सेरोटोनिन के उत्पादन को प्रोत्साहित करने में मददगार है।


हड्डियों को मजबूत बनाए

अगर आप कमजोर हड्डियों की समस्या से परेशान हैं, तो करोंदे को अपने आहार में जरूर शामिल करें। इसमें अच्छी मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है, जो हड्डियों को मजूबत बनाने के लिए बहुत जरूरी है। वहीं फाइबर से भरपूर यह फल पेट की समस्याओं का इलाज बेहतर तरह से कर सकता है। सूखे करोंदे के पाउडर को पानी में मिलाकर सेवन किया जा सकता है। इससे पेट के टिशू को आराम मिलता है और अपच, गैस व सूजन को खत्म करने में मदद मिलती है।