कांग्रेस ने कर्नाटक (Karnataka bypolls) में भाजपा से हनागल विधानसभा सीट (Hanagal seat) उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी को 7,598 मतों के अंतर से हराकर हासिल कर ली है। हनागल निर्वाचन क्षेत्र का मुकाबला मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई (Basavaraj Bommai) के लिए महत्वपूर्ण था, क्योंकि वह इसी जिले से आते हैं और उनके शिगगाव निर्वाचन क्षेत्र की सीमा हनागल के साथ लगती है। बोम्मई ने हनागल को उनका गृहनगर बताते हुए वोट मांगा था। उन्होंने सात दिनों तक निर्वाचन क्षेत्र में डेरा भी डाला, मगर उनकी मेहनत रंग नहीं ला सकी।

कांग्रेस उम्मीदवार श्रीनिवास माने (Srinivas Mane) ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी भाजपा के शिवराज सज्जनार के खिलाफ 87,113 वोट हासिल किए और शिवराज को 79,513 वोट मिले। जद (एस) उम्मीदवार नियाज शेख (niaz sheikh) को महज 921 वोट मिले। कांग्रेस के मौजूदा एमएलसी (विधान परिषद सदस्य) श्रीनिवास माने ने दावा किया है कि उन्होंने कोविड संकट के दौरान और बाढ़ के दौरान भी लोगों के लिए कड़ी मेहनत की। सूत्रों ने कहा कि ऐसा लगता है कि उनके जमीनी स्तर पर किए गए इसी काम ने ही उन्हें जीत हासिल कराई है।

हालांकि, सूत्रों ने यह भी कहा कि पार्टी के पूर्व मुख्यमंत्री बी. एस. येदियुरप्पा (BS Yediyurappa) और उनके बेटे बी. एस. विजयेंद्र को दरकिनार किए जाने के बाद इस फैक्टर का भी चुनाव प्रचार के दौरान जरूर प्रभाव पड़ा होगा। इसके अलावा सूत्रों का कहना है कि एक और कारण यह भी हो सकता है कि पार्टी ने अपने उम्मीदवार की घोषणा करने में बहुत अधिक समय लिया, जिसका परिणाम भाजपा को हार के तौर पर भुगतना पड़ा।