बेटियों को सरकार की तरफ से बड़ा तोहफा दिया गया है जिसके तहत उन्हेें जन्म से लेकर ग्रेजुएट होने तक पैसा दिया जाएगा। ऐसा योजना फिलहाल उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा कन्या सुमंगला योजना-2020 चलाई गई है। यह योजना उन परिवारों को बेटियों की पढ़ाई लिखाई में मदद करती है जिनकी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं।

इस योजना का फायदा परिवार की दो बेटियों को मिलता है। योजना के तहत ऐसे परिवारों को जिनकी सालाना आय 3 लाख रुपये से ज्यादा नहीं है, ऐसे परिवार में बेटी के जन्म से लेकर स्नातक में दाखिले तक 6 चरणों में कुल 15 हजार रुपये की मदद दी जाती है। योजना की राशि सीधे बेटियों के खाते में ट्रांसफर की जाएगी, जिससे उनके भविष्य को सुनिश्चित किया जा सकेगा। पहले इस योजना के लिए सालाना आय की सीमा 1.80 लाख रुपये थी, जिसे बढ़ाकर 3 लाख कर दिया गया।
6 चरणों में दिया जाता है पैसा
1. बेटी की जन्म होने पर 1000 रुपये की आर्थिक सहायता दी जाती है।
2. बच्ची का 1 वर्ष का टीकाकरण पूरे होने पर 2000 रुपये की आर्थिक मदद मिलती है।
3. कक्षा एक में प्रवेश के बाद फिर 2000 दिए जाएंगे।
4. कक्षा 6 में प्रवेश लेने के बाद बेटी को फिर से 2000 की आर्थिक मदद मिलेगी।
5. जब बेटी 9वीं कक्षा में दाखिला लेती है तो उसे 3000 की आर्थिक मदद मिल पाएगी।
6. 12वीं कक्षा पास करने के बाद स्नातक या 2 वर्ष या इससे ज्यादा अवधि वाले कोर्स में दाखिल लेने पर उसे 5000 रुपये मिलेंगे।

ऐसे परिवार उठा सकते हैं योजना का फायदा
1. परिवार उत्तर प्रदेश का निवासी हो तथा उसके पास स्थायी निवास प्रमाण पत्र हो।
2. पारिवारिक सालाना आय अधिकतम 3 लाख रुपये होनी चाहिए।
3. किसी परिवार की अधिकतम दो ही बच्चियों को योजना का लाभ मिल सकेगा।
4. परिवार में अधिकतम दो बच्चे हों।
5. अगर एक बेटी के बाद दूसरी बार जुड़वा बेटियां पैदा हों तो तीनों को ही इस योजना का लाभ मिलेगा।