कमरुल इस्लाम चौधरी को असम युवा कांग्रेस का नया अध्यक्ष चुना गया है। लंबे समय के बाद प्रदेश कांग्रेस के युवा संगठन की बागडोर ब्रह्मपुत्र घाटी के बराक घाटी के युवा शक्ति के हाथों में गर्इ है। प्रदेश कांग्रेस के सूत्रों ने बताया कि बुधवार को मतदान समाप्ति के बाद चुनाव के परिणाम घोषित किये गये।

पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष दिवंगत अंजन दत्ता की पुत्री अंकिता दत्ता अध्यक्ष पद के लिए केवल एक महिला उम्मीदवार थी, जो सर्वाधिक मतों की संख्या के हिसाब से दूसरे स्थान पर रही और संगठन की वरिष्ठ उपाध्यक्ष बनायी गयी जबकि रातुल पाटोवरी उपाध्यक्ष निर्वाचित हुए। इसके साथ ही संगठन के पांच महासचिवों का भी निर्वाचन हुआ।

कमरुल के जीत को पूर्व मंत्री रकीबुल हुसैन के अल्पसंख्यक कार्ड के जीत के तौर पर देखा जा रहा है। कमरुल ने भी अपनी जीत की श्रेय पूर्व मंत्री रकीबुल को देने में काेर्इ हिचक नहीं दिखार्इ। बता दें कि उन्होंने युवा कांग्रेस की प्रबल दावेदार अंकिता दत्त आैर रातुल पटवारी को पीछे छोड़ यह जीत हासिल की है।

इस बार युवा कांग्रेस के लिए नाै उम्मीदवारों में कड़ी टक्कर देखने को मिली है। युवा कांग्रेस के अध्यक्ष पद के चुनाव में प्रत्यक्ष तौर से प्रदेश कांग्रेस का नेतृत्व को काेर्इ दखल नहीं था। लेकिन राज्य के 126 विधानसभा क्षेत्रों में युवक कांग्रेस सदस्यता प्रक्रिया ये लेकर समूचे सांगठनिक निर्वाचन तक लाॅबींग भी किसी से छुपी नहीं थी।


प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रिपुन बाेरा आैर नेता विधायक दल देवब्रत सैकिया चाहते तो थे कि निचले असम से इस बार युवा कांग्रेस का नेतृत्व उभर कर सामने आए। इसी कड़ी में रातुल पटवारी को काफी सशक्त उम्मीदवार के तौर सामने लाया गया था। लेकिन पार्टी संगठन के विभिन्न कारणों से पिछड़ से रहे पूर्व मंत्री रकीबुल हुसैन के अल्पसंख्यक कार्ड के आगे किसी की नहीं चली। जीत के बाद कमरुल ने रकीबुल के साथ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का आभार व्यक्त किया है।