अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के दश्त-ए-बारची के एक प्रसूति अस्पताल में मंगलवार को हुये घातक हमले में मरने वालों की संख्या बढ़कर 24 हो गयी तथा 16 अन्य घायल हैं। स्वास्थ्य उप मंत्री वाहिद मजरूह ने बुधवार को यह जानकारी दी। यह घटना अस्पताल में मंगलवार को उस समय हुयी जब कुछ बंदूकधारियों ने प्रवेश द्वार पर बम से हमले करने के बाद अंदर घुस गये और गोलीबारी शुरू कर दी। इस हमले के बाद अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन डॉक्टर्स विदाउट बॉडर्स के अस्पताल के कुछ कर्मचारी भागने में सफल रहे।


अस्पताल में तैनात सुरक्षा बल सभी हमलावर आतंकवादियों को मार गिराने में कामयाब रहे। इससे पहले की रिपोर्टाें में इस हमले में 14 लोगों के मारे जाने तथा 15 के घायल होने की पुष्टि की गयी थी। मजरूह ने संवाददाताओं से कहा, 'दश्त-ए-बारची के 100 बिस्तरों वाले अस्पताल में हुए सामूहिक हमले में कुल 24 लोग मारे गये और 16 अन्य घायल हुए हैं।'


स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक इस घटना के पीड़ितों में नवजात बच्चे और महिलायें भी शामिल हैं। इस बीच, संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरस ने अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के अस्पताल पर हुए हमले की कड़ी निंदा की है। गुटेरस के प्रवक्ता स्टीफन दुजार्रिक की ओर से जारी एक बयान के अनुसार, 'उन्होंने कहा कि नागरिकों और अस्पतालों, चिकित्सा सुविधाओं तथा कर्मियों पर हमले अस्वीकार्य है। अंतरराष्ट्रीय मानवीय कानून के अनुसार इन्हें विशेष सुरक्षा प्राप्त है। ऐसे अपराध करने वालों को जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए।'