नई दिल्ली। ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने शुक्रवार को भारत को अपने लड़ाकू जेट बनाने के लिए 'जानकारी' और रक्षा उपकरणों की तेजी से डिलीवरी में मदद की पेशकश की। ब्रिटेन का कहना है कि वह भारत को लड़ाकू विमानों के निर्माण पर जानकारी प्रदान करेगा। यह प्रस्ताव ऐसे समय पर सामने आया है, जब पश्चिम भारत को रूस से दूर करने की कोशिश कर रहा है।

इस प्रस्ताव को ब्रिटेन द्वारा अपनी रक्षा जरूरतों के लिए रूस पर भारत की निर्भरता को दूर करने के कोशिशों के तौर पर देखा जा रहा है। बता दें कि भारत रूस से स्पेयर पाट्र्स सहित रक्षा उपकरणों का एक बड़ा हिस्सा आयात करता है। अपने भारतीय समकक्ष नरेंद्र मोदी के साथ द्विपक्षीय वार्ता के दौरान, जॉनसन ने भारत के साथ व्यापार और सुरक्षा संबंधों को बढ़ावा देने के तरीकों पर चर्चा की, जो रूस से अपने आधे से अधिक सैन्य हार्डवेयर खरीदता है। ब्रिटेन नए भारतीय-डिजाइन और निर्मित लड़ाकू जेट के लिए समर्थन करेगा, जो युद्ध जीतने वाले विमानों के निर्माण पर सर्वश्रेष्ठ ब्रिटिश जानकारी प्रदान करेगा।

यह भी पढ़े : Horoscope 23 April 2022: आज चंद्रमा मकर राशि में गोचर करेंगे , मेष, मिथुन और मकर राशि वाले आज न करें ये काम

दोनों नेताओं ने रक्षा और सुरक्षा सहयोग को भारत-यूके व्यापक रणनीतिक साझेदारी के एक प्रमुख तत्व के रूप में बदलने पर सहमति व्यक्त की और दोनों देशों के सशस्त्र बलों की जरूरतों को पूरा करने के लिए सह-विकास और सह-उत्पादन सहित रक्षा सहयोग के अवसरों पर चर्चा की।

विशेषज्ञों का मानना है कि इस कदम से रक्षा क्षेत्र में भारत के 'मेक इन इंडिया' कार्यक्रम के लिए बहुत जरूरी बढ़ावा मिलने की उम्मीद है। विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि दोनों नेताओं ने सह-उत्पादन और रक्षा प्रौद्योगिकी, विशेष रूप से विद्युत प्रणोदन और आधुनिक रक्षा विमानों के जेट इंजन और अन्य जटिल रक्षा उपकरणों पर भी विस्तृत चर्चा की।

यह भी पढ़े : Love Horoscope : आज चमक उठेगी इन 4 राशियों की लव लाइफ , होगी नई शुरुआत, विवाह के भी योग

दोनों पक्षों ने विशेष रूप से साइबर प्रशासन, साइबर प्रतिरोध और महत्वपूर्ण राष्ट्रीय बुनियादी ढांचे की सुरक्षा के क्षेत्रों में साइबर सुरक्षा पर सहयोग को और गहन करने के लिए एक संयुक्त बयान जारी किया। वे आतंकवाद और कट्टरपंथी उग्रवाद के लगातार खतरे का मुकाबला करने के लिए निकट सहयोग करने पर भी सहमत हुए। दोनों नेताओं ने यूक्रेन-रूस संघर्ष पर भी चर्चा की।

प्रधानमंत्री मोदी ने बढ़ते मानवीय संकट पर भी गहरी चिंता व्यक्त की और हिंसा को तत्काल समाप्त करने और सीधे संवाद और कूटनीति पर लौटने के लिए एकमात्र रास्ते के रूप में अपना आह्वान दोहराया। जॉनसन ने गुजरात का दौरा करने के बाद गुरुवार को एक बयान में कहा, 'दुनिया को निरंकुश राष्ट्रों से बढ़ते खतरों का सामना करना पड़ रहा है, जो लोकतंत्र को कमजोर करना चाहते हैं, स्वतंत्र और निष्पक्ष व्यापार को रोकना चाहते हैं और संप्रभुता को रौंदना चाहते हैं।'