अमरीका की बहुराष्ट्रीय कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन को 14500 करोड़ रुपए बतौर मुआवजे के तौर पर देने ही होंगे। कंपनी पर यह जुर्माना बेबी पाउडर और टैल्कम पाउडर से महिलाओं को हुए कैंसर के बाद लगाया गया है। 

अमरीका के सुप्रीम कोर्ट ने निचली अदालतों के आदेश पर फिर सुनवाई करने से इनकार कर दिया। कंपनी ने क्षतिपूर्ति का आदेश पर फिर से विचार करने के लिए निवेदन किया था। इस मुकदमे में पीडि़त महिलाओं के वकील मार्क लेनियर ने सुप्रीम कोर्ट के रुख को सराहनीय बताया। अब तक कंपनी के खिलाफ लगभग 9 हजार से ज्यादा ऐसे ही मुकदमे हैं। महिलाओं ने कंपनी के उत्पादों के गर्भाशय का कैंसर होने का दावा किया है।

बता दें कि इस मामले पर साल 2018 में सेंट लुईस ज्यूरी ने 20 महिलाओं की याचिका पर एक साथ सुनवाई के बाद अपना फैसला सुनाया था। Johnson & Johnson का ये कहना था कि कोर्ट में उन्हें अपना पक्ष ठीक तरीक से रखने का मौका नहीं दिया गया। इसलिए उन्होंने अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने भी कंपनी की याचिका को ठुकरा दिया, जिसके बाद अब Johnson & Johnson को मुआवजे के रूप में 14500 करोड़ रुपये महिलाओं को चुकाने ही होंगे।