कई बार सच्ची लाइफ में ऐसी घटनाएं घट जाती हैं जो किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं होतीं। झारखंड के गढ़वा जिले से एक ऐसा ही मामला सामने आया है जहां एक जोगी जब भिक्षा मांगने पहुंचा तो एक महिला ने उसे अपना पति बताया और कहा कि 22 साल तक आप कहां थे। अंततः जोगी को यह बात स्वीकार करनी पड़ी।

दरअसल, यह घटना झारखंड के गढ़वा जिले की है। आजतक की एक रिपोर्ट के मुताबिक, यहां कांडी प्रखंड इलाके में एक जोगी पहुंचा तो उसने एक विधवा महिला से भिक्षा मांगी। महिला अचानक उसे देखने लगी फिर उसने कहा अरे ये तो मेरे पति हैं। इसके बाद गांव में हड़कंप मच गया। गांव के लोग उसे मृत मान चुके थे। महिला ने जोगी का नाम उदय बताते हुए कहा कि यही मेरा पति है।

यह मामला रविवार का है, 22 वर्ष बीत जाने के बाद उदय साव जोगी के भेष में हाथ में सारंगी लिए हुए अपने पैतृक आवास पहुंचे। वे पत्नी से भिक्षा लेने के लिए पहुंचकर बाबा गोरखनाथ का भजन गाने लगे। उदय साव को पहचानने के बाद पत्नी बिलख- बिलख कर रोने लगी। उसे जोगी का रूप छोड़कर अपने घर रहने के लिए कहने लगी।

आखिरकार जोगी ने स्वीकार किया कि वही उदय साव हैं। लेकिन उसने रुकने से मन कर दिया। जोगी ने कहा कि पत्नी के भिक्षा के बिना मुझे सिद्धि प्राप्त नहीं हो सकती है। इसलिए मुझे भिक्षा देकर मुझे अपना कर्तव्य का पालन करने दें। रिपोर्ट में इस बात का जिक्र है कि अभी उसको पत्नी से भिक्षा नहीं मिली है।

जोगी के भेष में बरसों बाद उदय साव के घर आने की सूचना पर कई गांव की लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। सभी लोगों ने चाहा कि जोगी के भेष में पहुंचे उदय अब अपना घर परिवार के साथ ही रहे। परंतु वह घर परिवार में रहने से इनकार किया। यहां तक कि वे उस गांव से बाहर आकर डिग्री कॉलेज कांडी में शरण लिए हुए है।