आंध्र प्रदेश के गुंटूर स्थित जिन्ना टावर विवाद के बाद तिरंगे में रंग दिया गया है। अब यहां पर राष्ट्रीय ध्वज फहराने की व्यवस्था की जा रही है। इसको लेकर गुंटूर पूर्व के विधायक मोहम्मद मुस्तफा ने कहा कि विभिन्न समूहों के अनुरोध पर टावर को तिरंगे से सजाने और टावर के पास राष्ट्रीय ध्वज फहराने के लिए एक पोल बनाने का निर्णय लिया गया है।
मुस्तफा ने यह भी कहा है कि जिन्ना टावर पर राष्ट्रीय ध्वज फहराने के लिए जरूरी इंतजाम किए जाएंगे। मुस्तफा ने जीएमसी मेयर कवती मनोहर नायडू के साथ सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेने के लिए टावर का दौरा किया।

उन्होंने कहा कि बड़े मुस्लिम नेताओं ने स्वतंत्रता संग्राम के दौरान अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी। आजादी मिलने के बाद कुछ मुसलमान देश छोड़कर पाकिस्तान चले गए। लेकिन हम अपने देश में भारतीय के रूप में बने रहना चाहते हैं और हम अपनी मातृभूमि से प्यार करते हैं।

हाल ही में जिन्ना टावर का मुद्दा उठाने वाली भारतीय जनता पार्टी की आलोचना करते हुए मुस्तफा ने कहा कि भाजपा नेताओं को सांप्रदायिक झड़पों को भड़काने के बजाय कोरोना महामारी के बीच जरूरतमंद लोगों की मदद करनी चाहिए।

आपको बता दें कि 26 जनवरी को तिरंगा फहराने के लिए लोगों का एक समूह जिन्ना टावर में घुस गया था जिसके बाद उन्हें हिरासत में लिया गया था। भाजपा की आंध्र प्रदेश इकाई ने पिछले साल दिसंबर में गुंटूर नगर निगम आयुक्त चल्ला अनुराधा को एक ज्ञापन सौंपा था जिसमें पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम के नाम पर जिन्ना टावर का नाम बदलने का अनुरोध किया गया था।