झारखंड प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजेश ठाकुर ने गुरुवार को सोनिया गांधी से मुलाकात कर झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के खनन पट्टा मामले में जानकारी दी। राजेश ठाकुर ने गुरुवार को कहा, झारखंड में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन पर माइनिंग पट्टे लेने के आरोप लग रहे हैं, जोकि गलत हैं। इस पूरे मामले की जानकारी सोनिया गांधी को दी।

ये भी पढ़ेंः गजबः अब ट्विटर के बाद कोका-कोला को खरीदेंगे एलन मस्क, फिर उसमें मिलाएंगे कोकीन


कांग्रेस अध्यक्ष से मुलाकात के बाद मीडिया से बातचीत में सोरेन का पक्ष लेते हुए राजेश ठाकुर ने कहा, जितनी मेरी राजनीतिक समझ है उन पर ऐसा कोई आरोप नहीं लगा है जिसका लोग हौवा बना रहे हैं। सोरेन पर वह लोग आरोप लगा रहे हैं जिन पर खुद दर्जनों आरोप लगे हैं। एक चॉकलेट से लेकर हाथी चुराने तक के आरोप लगे हैं। वही लोग इसे मुद्दा बना रहे हैं। गौरतलब है कि झारखंड सरकार में मुख्यमंत्री सोरेन के पास खनन विभाग भी है और उन पर आरोप है कि उन्होंने पत्थर खनन खुद को अलॉट किया है। हालांकि अब इस मामले में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। रांची हाईकोर्ट के बाद अब निर्वाचन आयोग ने भी मामले में नाराजगी दिखाई है। चुनाव आयोग ने राज्य के मुख्य सचिव सुखदेव सिंह को पत्र लिखाकर कहा है कि दस्तावेजों के ‘प्रमाणीकरण’ कर मुख्य सचिव बताएं कि सोरेन ने रांची के अंगारा ब्लॉक में खनन पट्टा लेने के लिए अपने पद का दुरुपयोग किया या नहीं।

ये भी पढ़ेंः FB पर पोस्ट लिखकर BJP की महिला नेता ने की आत्महत्या, जानिए ऐसा क्या लिखा



इससे पहले इस मामले में पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा नेता रघुवर दास के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने फरवरी में राज्यपाल से मुलाकात कर सीएम को हटाने की मांग करते हुए इससे संबंधित दस्तावेज सौंपे थे। वहीं राज्यपाल ने इन दस्तावेजों को चुनाव आयोग को भेजकर उसकी राय मांगी थी जिसके बाद आयोग ने इन दस्तावेजों को मुख्य सचिव को भेज दिया और कहा कि वे बताएं कि सीएम पर आरोप से संबंधित ये दस्तावेज सही हैं या नहीं।