बिहार में जारी राजनीतिक सरगर्मियों को अब और हवा मिलने वाली है। बिहार विधानसभा की चुनावी तैयारियों के बीच पार्टी दुश्मनी का दौर भी शुरू हो गया है। बताया जा रहा है चुनाव आयोग आने वाले कुछ ही माह में चुनाव करवा सकता है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आयोग ने इसके लिए तैयारियां भी शुरू कर दी है। लेकिन इसी बीच चुनाव से पहले बिहार में अपराध के कई मामले सामने आ रहे हैं। ताजा मामले में अपराधियों ने पटना में जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) के छात्र नेता की गोली मारकर हत्या कर दी है। छात्र नेता का नाम कन्हैया कौशिक बताया जा रहा है।

होली के दिन जेडीयू के युवा नेता कन्हैया कौशिक को अपराधियों ने गोलियों से भून दिया। जांच के अनुसार कन्हैया कौशिक को पटेल नगर में गोली मारी गई। जानकारी के लिए बता दें कि बिहार में कन्हैया छात्र जेडीयू का पूर्व प्रदेश महासचिव रह चुका है और इसकी के साथ में कन्हैया एएन कॉलेज छात्रसंघ का उपाध्यक्ष भी रह चुका है। जानकारी के मुताबिक कन्हैया की रंजिश कुछ लोगों के साथ चल रही थी। इसी विवाद के बीच होली के दिन का फायदा उठाते हुए कन्हैया कौशिक को मुलाकात के बहाने अपराधियों ने बुलाया और इस घटना को अंजाम दिया।

जहां अपराधियों ने कन्हैया पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दी। कन्हैया को पांच गोलियां मारी गई, जिसके बाद उसकी मौके पर ही मौत हो गई। हत्या की इस वारदात के बाद सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पुलिस पर भी भारी सवाल खड़े हो गए हैं। साथ ही इस मामले में जेडीयू नेताओं ने भी आक्रोश जताया।  इस पूरे घटना पर छात्र जेडीयू नेता सुनील गुप्ता ने दोषियों को जल्द गिरफ्तार करने और सख्त कार्रवाई किए जाने की मांग की है। वहीं पुलिस मामले की जांच में जुट हुई है। इस घटना को पुलिस चुनाव के चलते एक विपक्ष साजिश के नजरिए से भी देखने की कोशिश कर रही है। फिलहाल तक इस तरह का कोई सबूत हाथ नहीं लगा है।