बिहार में नीतीश कुमार के महागठबंधन के साथ जाकर सरकार बनाने के बाद भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता लगातार नीतीश कुमार पर निशाना साध रहे हैं। कभी नीतीश के सबसे करीबी रहने वाले उनके मंत्रिमंडल में वर्षों तक उपमुख्यमंत्री रहे सुशील कुमार मोदी ने तो मोर्चा खोल रखा है।

ये भी पढ़ेंः 15 अगस्त से पहले जम्मू में फिर आतंकी हमला, ग्रेनेड अटैक में प्रदेश पुलिस का जवान शहीद


बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने जदयू को लेकर भविष्यवाणी करते हुए कहा कि जद (यू) का राजद में विलय होगा या पार्टी ही नहीं बचेगी। मोदी ने कहा कि यह बात हजम नहीं होगी कि नीतीश कुमार अपनी पार्टी बचाने के लिए फिर लालू प्रसाद की शरण में गए हैं। उन्होंने कहा कि जदयू न तो राजद, कांग्रेस जैसा वंशवादी है, न भाजपा की तरह संगठन आधारित। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार के बाद इसका कोई भविष्य नहीं। यह पार्टी राजद में विलय करेगी या विलीन हो जाएगी।

ये भी पढ़ेंः शिव संग्राम प्रमुख विनायक मेटे की सड़क हादसे में मौत, तीन बार रह चुके थे विधायक


भाजपा नेता ने नीतीश कुमार के आरोपों पर आगे कहा कि निजी महत्वाकांक्षा के लिए जनादेश से विश्वासघात पर पर्दा डालने के लिए नीतीश कुमार बेमतलब की बातें कहने लगे। उन्होंने कहा कि भाजपा गठबंधन धर्म का पालन करती है, किसी को तोड़ती नहीं। उन्होंने आगे सवालिया लहजे में कहा कि जदयू में नीतीश कुमार की इच्छा के विपरीत कुछ नहीं होता। आर सी पी सिंह अगर उनकी इच्छा के विपरीत केंद्रीय मंत्री बने, तो 13 महीनों तक उनके खिलाफ कोई कार्रवाई क्यों नहीं हुई? उनकी सदस्यता समाप्त क्यों नहीं की गई?