लखनऊ। समाजवादी पार्टी (सपा) ने राज्य सभा की 11 सीटों के लिये हो रहे चुनाव में जावेद अली को अपना उम्मीदवार बनाया है। जावेद अली ने बुधवार को यहां अपना नामांकन पत्र दाखिल कर दिया। मुखर वक्ता जावेद अली इससे पहले राज्य सभा में सपा की बुलंद आवाज माने जाते रहे हैं। संसद के उच्च सदन में वह 2014 से 2020 तक सपा के सदस्य रहे। उनके नामांकन के समय सपा के वरिष्ठ नेता और राज्य सभा सदस्य रामगोपाल यादव मौजूद थे। उनसे पहले कांग्रेस के पूर्व वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने भी आज सपा प्रमुख अखिलेश यादव की मौजूदगी में नामांकन भरा। 

ये भी पढ़ेंः रूस यूक्रेन युद्ध के बीच पुतिन की हत्या की कोशिश! इस देश ने रची साजिश

पूर्व राज्य सभा सांसद सिब्बल ने सपा समर्थित उम्मीदवार के रूप में नामांकन पत्र दाखिल किया है। सिब्बल ने कहा, 'मैं 16 मई को कांग्रेस से इस्तीफा दे चुका हूं। आज निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में मैंने राज्यसभा के लिए नामांकन किया है। समाजवादी पार्टी इसमें मेरा सहयोग कर रही है। अखिलेश यादव का शुक्रिया।' सपा के राज्यसभा में अभी पांच सदस्य हैं। इनमें रामगोपाल के अलावा जया बच्चन, विशंम्भर प्रसाद निषाद, चौधरी सुखराम ङ्क्षसह और रेवती रमण सिंह शामिल हैं। 

उल्लेखनीय है कि राज्यसभा की उत्तर प्रदेश से 11 सीटों पर चुनाव के लिए नामांकन कल शुरू हुआ था। चुनाव कार्यक्रम के मुताबिक उम्मीदवार 31 मई तक अपने नामांकन दाखिल कर सकेंगे। आगामी 01 जून को नामांकन पत्रों की होगी जांच होगी और तीन जून तक नामांकन वापस लिये जा सकेंगे। इसके बाद 10 जून को सुबह 09 बजे से शाम 04 बजे तक मतदान होगा और शाम 05 बजे से मतगणना होगी। 

ये भी पढ़ेंः कश्मीर में नहीं सुधर रहे आतंकी, पुलिसकर्मी की गोली मारकर हत्या, बेटी भी घायल


गौरतलब है कि राज्यसभा में उत्तर प्रदेश से 31 सांसद चुने जाते हैं। इनमें से 11 सदस्यों का कार्यकाल आगामी 04 जुलाई को समाप्त हो रहा है। उत्तर प्रदेश में विधान सभा की मौजूदा स्थिति के मुताबिक भाजपा गठबंधन के 273, सपा गठबंधन के 125, जनसत्ता दल (लोकतांत्रिक) और कांग्रेस के दो-दो तथा बसपा का एक विधायक है। इस लिहाज से चुनाव वाली राज्यसभा की 11 सीटों में से भाजपा को 07 और सपा को 03 सीटें मिलना तय है। जबकि, एक सीट पर तस्वीर अभी साफ नहीं है। समझा जाता है कि जनसत्ता दल के दो विधायकों का समर्थन भाजपा को मिल सकता है। वहीं, कांग्रेस और बसपा का किसी भी दल से गठबंधन नहीं होने के कारण ये दोनों दल चुनाव से तटस्थ रह सकते है।