जापान कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी से लड़ने के लिए पांच करोड डॉलर के सहायता पैकेज के रूप में भारत को 1.48 करोड़ डॉलर के 2,000 अतिरिक्त ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर्स और एक हजार वेंटिलेटर भेजेगा। भारत में कोविड-19 महामारी के तेजी से प्रसार के बीच जापान सरकार ने भारत को 1.48 करोड़ डॉलर के उपकरण भेजने का फैसला किया है। 

विदेश मंत्रालय ने कहा कि यह फैसला पांच करोड डालर की राशि में नि:शुल्क सहायता का एक हिस्सा है। हम भारत के लिए 1000 लंग वेंटिलेटर और 2000 ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर्स प्रोजेक्ट सर्विसिस के लिए संयुक्त राष्ट्र के मार्फत भेजेंगे। भारत में कोरोना की दूसरी लहर के कारण वहां के अस्पताल ऑक्सीजन की भारी कमी से जूझ रहे हैं, जिससे कई देशों को चिकित्सा उपकरणों, दवाओं और ऑक्सीजन जनरेटर के साथ भारत की मदद करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। 

वहीं देश में कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी के नए मामले 45 दिनों बाद घटकर दो लाख के नीचे आ गए हैं। पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी के दो लाख 86 हजार 364 नए मामले सामने आए है। इससे पहले 14 अप्रैल को देश में कोरोना के 1,84,372 नये मामले दर्ज किए गए थे। राहत की बात यह रही कि इस बीच एक लाख 59 हजार 459 मरीज कोरोनामुक्त हुए। रिकवरी दर बढ़कर 90.34 प्रतिशत हो गयी। इस बीच गुरुवार को 29 लाख 19 हजार 699 लोगों को कोरोना के टीके लगाये गये। देश में अब तक 20 करोड़ 75 लाख 20 हजार 660 लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है। 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से शुक्रवार की सुबह जारी आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटों में 1,86,364 नये मामले आने के साथ ही संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर दो करोड़ 75 लाख 55 हजार 457 हो गया। इस अवधि में दो लाख 59 हजार 459 मरीज स्वस्थ हुए हैं, जिसे मिलाकर देश में अब तक दो करोड़ 48 लाख 93 हजार 410 लोग इस महामारी को मात दे चुके हैं। सक्रिय मामले 76,755 कम होकर 23 लाख 43 हजार 152 हो गये हैं। इसी अवधि में 3660 मरीज जिंदगी की जंग हार गये और इस बीमारी से मरने वालों की कुल संख्या बढ़कर 3,18,895 हो गयी है। देश में सक्रिय मामलों की दर घटकर 8.50 प्रतिशत रह गयी है, जबकि मृत्युदर अभी 1.16 फीसदी है। महाराष्ट्र में सक्रिय मामले 13,981 और घटकर 3,03,752 रह गये हैं। इस दौरान राज्य में 34,370 और मरीजों के ठीक होने के बाद कोरोनामुक्त होने वालों की तादाद बढ़कर 52,76,203 हो गयी है जबकि 884 और मरीजों की मौत होने से मृतकों का आंकड़ा बढ़कर 92,225 हो गया है।