वाराणसी। जेल में बंद माफिया डॉन और निवर्तमान एमएलसी बृजेश सिंह (MLC Brijesh singh) ने वाराणसी से विधान परिषद चुनाव के लिए नामांकन दाखिल किया है। वाराणसी, भदोही और चंदौली जिले वाली यह सीट 1998 से उनके परिवार के पास है। उनकी पत्नी और पूर्व एमएलसी अन्नपूर्णा सिंह ने भी इसी सीट से पर्चा दाखिल किया है। बृजेश ने 2016 में अपनी पत्नी के कार्यकाल पूरा करने के बाद चुनाव जीता था।

यह भी पढ़ें- Happy Holi Wishes 2022: रंगों इस फेस्टिवल पर अपनों को इन मैसेज से भेंजे शुभकामनाएं , बोलें- Happy Holi

उप जिला चुनाव अधिकारी और एमएलसी (स्थानीय निकाय) चुनाव के लिए निर्वाचन अधिकारी, रण विजय सिंह ने कहा कि दो उम्मीदवारों, बृजेश सिंह और अन्नपूर्णा सिंह ने निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में अपना नामांकन दाखिल किया। इससे पहले, लोक दल के एक जय राम ने अपना नामांकन दाखिल किया था।

भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी संशोधित कार्यक्रम के अनुसार, एमएलसी चुनावों के लिए नामांकन दाखिल करने की प्रक्रिया 21 मार्च तक जारी रहेगी। 4 फरवरी को जब नामांकन प्रक्रिया शुरू हुई तो बृजेश और उनकी पत्नी ने फॉर्म खरीदे थे, लेकिन विधानसभा चुनाव को देखते हुए चुनाव स्थगित कर दिया गया था। वाराणसी निर्वाचन क्षेत्र के लिए स्थानीय निकाय चुनाव के रिकॉर्ड बताते हैं कि 1998 में, बृजेश के भाई उदयनाथ सिंह उर्फ चुलबुल सिंह ने पहली बार इस सीट को जीता था और 2004 में इसे बरकरार रखा था।

यह भी पढ़ें- Holika Dahan 2022 Subh Muhurat: फाल्गुन पूर्णिमा दोपहर 1:29 से प्रारंभ होगी, जानिए होलिका दहन और होली पूजा का शुभ मुहूर्त

2010 में, अन्नपूर्णा ने बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के टिकट पर चुनाव लड़ा और विजयी हुईं। 2012 में, बृजेश ने शुरू में राज्य के विधानसभा चुनाव में चंदौली जिले के सैय्यदराजा सीट से एक कम प्रसिद्ध राजनीतिक दल, प्रगतिशील मानव समाज पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़कर अपनी किस्मत आजमाई थी। हालांकि, वह निर्दलीय मनोज सिंह डब्लू से हार गए। चुनाव जीतने के बाद मनोज समाजवादी पार्टी (सपा) में शामिल हो गए थे।