उत्तर प्रदेश में इटावा जिला जेल से रिहा हुए समाजवादी पार्टी (सपा) नेता धर्मंद्र यादव की हूटर रैली के वीडियो वायरल होने पर पुलिस ने करीब 34 लोगो को हिरासत में लिया गया और डयूटी के प्रति लापरवाही बरतने के आरोपी में जेल चौकी प्रभारी भानू प्रताप सिंह को निलंबित कर दिया गया है । वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डा.ब्रजेश कुमार सिंह ने आज यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि चार जून को जेल से रिहा हुए सपा नेता घर्मेंद्र यादव ने कल जेल के बाहर से रैली निकाली थी। इस मामले को गंभीरता से लेते हुए जेल चौकी प्रभारी भानु प्रताप सिंह को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया जब कि अन्य की जांच एसपी सिटी प्रशांत कुमार को सौंप दी है। 

उन्होंने बताया कि इटावा में हूटर रैली निकालने वाले सपा नेता धर्मेंद्र यादव की तलाश में इटावा, औरैया, आगरा और जालौन जिलो में छापेमारी की गई । जिसमे 34 ऐसे लोगो को हिरासत में लिया गया है जो कही न कही इस हूटर रैली मे शामिल थे जब कि 24 वाहनो को जब्त किया गया है । श्री ङ्क्षसह ने बताया कि धर्मेंद्र यादव जिस गाड़ी पर सवार था उसे भी पुलिस ने जब्त कर लिया है। मुख्य आरोपी धर्मेंद्र यादव अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर, जिसकी तलाश में पुलिस जुटी है। उन्होंने बताया कि कोरोना काल में निकाली गई इस रैली को गंभीरता से लेते हुए पुलिस प्रशासन ने घर्मेंद्र यादव समेत 200 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी। 

गौरतलब है कि चार जून की शाम धर्मेंद्र यादव इटावा जेल से छुटे थे और पांच जून को उन्होंने सैकड़ों समर्थकों के साथ बड़ी संख्या में गाडिय़ों में जुलूस निकाल कर ताकत का प्रदर्शन किया था। जुलूस में हार-माला पहने धर्मेंद्र एक खुली आडी कार में चल रहा था जबकि उसके समर्थक उसकी गाड़ी के आगे-पीछे दिखाई दे रहे थे। दाहिने-बाएं गाडिय़ों के दरवाजों से बाहर लटके,नारेबाजी करते और जुलूस की वीडियो बनाते चल रहे थे। खास बात तो यह है कि घर्मेद्र यादव और उसके समर्थको ने खुद ही यह मुसीबत मोल ली है अगर वो फेसबुक लाइव नहीं करते तो शायद पुलिस की निगाह भी इस ताकत का प्रदर्शन करने वाले कारनामे पर किसी की नही पडती । घर्मेंद्र ने कानपुर से दिल्ली जाने वाले हाईवे पर इटावा से औरैया के अनंतराम टोल प्लाजा तक करीब 30 किलोमीटर लंबा जुलूस निकाला था। शनिवार को इटावा और औरैया दोनों जगह वीकेंड कोरोना कफ्र्यू था ,लेकिन इस 30 किलोमीटर लंबे रास्ते में कहीं भी पुलिस ने उसे रोकने की कोशिश नहीं की।