पंजाब विधानसभा चुनावों (punjab assembly elections) से पहले कांग्रेस के अपने ही उसके लिए बड़ी मुसीबत बन सकते हैं। दरअसल अब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री जगमोहन कंग (jagmohan kang) बागी हो गए हैं। दरअसल इस चुनाव में बंग को पार्टी ने टिकट नहीं दिया था। ऐसे में बंग खरड़ विधानसभा क्षेत्र (Kharar Assembly Constituency) से अपने बेटे को यादविंदर सिंह कंग (Yadvinder Singh Kang) को बतौर निर्दलीय उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतारेंगे।

कंग ने मीडिया से बातचीत में टिकट कटने के लिए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi) को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि चन्नी ने साजिश के तहत उनके बारे में गलत रिपोर्ट देकर टिकट कटवाया। उन्होंने कहा कि वह खुद तो नहीं लेकिन बेटे यादविंदर ((Yadvinder Singh Kang)) को निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनाव मैदान में उतारेंगे तथा कांग्रेस को विशेषकर चन्नी की हार सुनिश्चित करने के लिए उनके विधानसभा क्षेत्र में जाकर प्रचार करेंगे। यादविंदर इस समय पंजाब इन्फोटैक (Punjab Infotech) के वाइस चेयरमैन पद पर हैं। 

वहीं कांग्रेस ने खरड़ सीट से विजय शर्मा (Vijay Sharma) को उम्मीदवार बनाया है। भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) के साथ गठबंधन के तहत पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Capt Amarinder Singh) की पार्टी पंजाब लोक कांग्रेस (Punjab Lok Congress) (पीएलसी) ने कमलदीप सिंह को उम्मीदवार बनाया है लेकिन वह पार्टी के नहीं बल्कि भाजपा के चुनाव चिन्ह ‘कमल‘ पर चुनाव लड़ेंगे। इसके पीछे कारण भाजपा कार्यकर्ताओं का सहयोग नहीं मिलना बताया जा रहा है। भाजपा के अनेक नेता इस सीट के लिए दावेदारी ठोक रहे थे। मोहाली जिले में तीन विधानसभा सीटें हैं जिनमें से गठबंधन के तहत दो भाजपा तथा एक पीएलसी के खाते में गई हैं।