नई दिल्ली: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने जगदीश मुखी को असम का नया राज्यपाल नियुक्त किया है. इससे पहले बनवारी लाल पुरोहित असम राज्यपाल की जिम्मेदारी संभाल रहे थे. 

नए राज्यपाल नियुक्त किए जाने के बाद आइए जानते हैं जगदीश मुखी से जुड़ी जुरूरी बातें. बता दें कि जगदीश मुखी दिल्ली के काफी अनुभवी नेता माने जाते हैं. मुखी ने दिल्ली की जनता के लिए बड़े पैमाने पर काम भी किया है. मुखी दिल्ली सरकार में वित्त, योजना, उत्पाद, शुल्क कर के साथ-साथ उच्च शिक्षा मंत्री पद की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं. 

मुखी को दिल्ली विधानसभा में दो बार बेस्ट एमएलए अवॉर्ड  से सम्मानित भी किया गया है. इसके साथ-साथ उन्हें देश के सर्वश्रेष्ठ प्लानिंग मिनिस्टर के रूप में भी सम्मानित भी किया गया है. 

इससे पहले अगस्त 2016 में जगदीश मुखी ने अंडमान और निकोबार द्वीप के लिए 12वें लेफ्टिनेंट गवर्नर के रूप में पद ग्रहण किया था. मुखी दिल्ली विश्वविद्यालय में प्रोफेसर थे और 'कंपनी लॉ एंड सेक्रेटेरियल प्रैक्टिस' नामक एक पुस्तक भी लिखी है. 

मुखी दिल्ली के जनकपुरी मंडल के अध्यक्ष पद पर रहते हुए अलग-अलग स्तर पर काम किया है. जिसमें भाजपा पश्चिम जिला के महासचिव और अध्यक्ष, दिल्ली भाजपा  के महासचिव और जम्मू और कश्मीर और हरियाणा के लिए भाजपा मामलों के प्रभारी की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं. 

बता दें कि राष्ट्रपति ने शुक्रवार को देश के 6 राज्यों में नए राज्यपालों की नियुक्ति की है. प्रोफेसर जगदीश मुखी असम के राज्यपाल नियुक्त किए गए हैं. इसके अलावा बनवारी लाल पुरोहित को तमिलनाडु का राज्यपाल बनाया गया है. 

अभी तक तमिलनाडु के राज्यपाल का अतिरिक्त कार्यभार महाराष्ट्र के गवर्नर सी. विद्यासागर राव संभाल रहे थे. वहीं गंगा प्रसाद को मेघालय और बीडी मिश्रा को अरुणाचल प्रदेश का राज्यपाल बनाया गया है. एडमिरल (रिटायर्ड) देवेंद्र कुमार जोशी केंद्र शासित प्रदेश अंडमा- निकोबार के लेफ्टिनेंट गवर्नर होंगे.