कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर के कारण बने मौजूदा हालात को देखते हुए केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने टैक्सपेयर्स को बड़ी राहत दी है। सीबीडीटी ने वित्त वर्ष 2020-21 (एसेसमेंट ईयर 2021-22) के लिए इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने की समय-सीमा दो महीने बढ़ा दी है। इंडिविजुअल टैक्सपेयर्स अब 30 सितंबर तक अपना इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल कर सकेंगे। सरकार की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि सीबीडीटी ने इनकम टैक्स एक्ट, 1961 के सेक्शन 119 के तहत अधिकारों का इस्तेमाल करते हुए इनकम टैक्स रिटर्न भरने की समय-सीमा बढ़ा दी है।

CBDT ने कंपनियों के लिए भी Income Tax Return (ITR) दाखिल करने की समयसीमा एक महीना बढ़ा दी है। अब कंपनियां 30 नवंबर तक पिछले वित्त वर्ष का इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल कर सकेंगी। आम तौर पर कंपनियों को हर साल 31 अक्टूबर तक पिछले वित्त वर्ष का इनकम टैक्स रिटर्न File करना पड़ता है। CBDT ने कंपनियों के लिए कर्मचारियों को फॉर्म-16 जारी करने की समयसीमा भी एक महीना तक बढ़ा दी है। 

अब कंपनियां 15 जुलाई तक अपने कर्मचारियों को फॉर्म-16 जारी कर सकेंगी। देर से (Belated) या Revised इनकम टैक्स रिटर्न भारने की समयसीमा अब 31 जुलाई 2022 होगी। वित्तीय संस्थाओं के लिए फाइनेंशियल ट्रांजेक्शन स्टेटमेंट (SFT) दाखिल करने की समयसीमा भी बढ़ाकर 30 जून कर दी गई है। पहले इसके लिए 31 मई की समयसीमा थी।