तीर्थयात्रियों के अभूतपूर्व आगमन के कारण केदारनाथ मंदिर में सुरक्षा और दर्शन को सुव्यवस्थित करने के लिए ITBP की तैनाती की गई है. भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) केदारनाथ मंदिर और केदारनाथ घाटी में तीर्थयात्रियों के दर्शन और उनके आवागमन को नियंत्रित कर रही है. मंदिर में प्रतिदिन 20 हजार से अधिक श्रद्धालु दर्शन कर रहे हैं और सोनप्रयाग, ऊखीमठ और केदारनाथ जैसे स्थानों पर केदारनाथ घाटी में आने-जाने वाले तीर्थयात्रियों की भीड़ भक्तों से भरी रह रही है.

यह भी पढ़े : इन राशियों पर नहीं होता शनि की साढ़ेसाती या ढैया कोई प्रभाव, इन पर मेहरबान रहते हैं शनि देव


इन स्थानों पर आईटीबीपी की टीमें यात्रियों की आवाजाही पर कड़ी नजर रखे हुए हैं. 6 मई, 2022 के बाद मंदिर के कपाट खोले हुए एक सप्ताह का समय हो चुका है और अब तक अनुमानतः 1 लाख 30 हजार से अधिक तीर्थयात्री केदारनाथ के दर्शन कर चुके हैं.

यह भी पढ़े : Jammu Kashmir: राहुल भट्ट के गमज़दा पिता ने बयां की दास्तां, कहा -आतंकियों ने मेरे बेटे का नाम पूछकर मारी गोली


ITBP ने इलाके में अपनी आपदा प्रबंधन टीमों को भी अलर्ट कर दिया है. जगह-जगह ऑक्सीजन सिलेंडर और चिकित्सा उपकरणों के साथ मेडिकल टीमें तैनात की गई हैं और राज्य प्रशासन की मदद से मेडिकल इमरजेंसी और जरूरत पड़ने पर बीमार लोगों को निकालने का अभ्यास किया जा रहा है.

यह भी पढ़े : Horoscope May 13 : मंगल और शनि कुंभ राशि में , इन राशि वालों को मिल सकता है शुभ समाचार, कुंभ राशि वाले बचकर चले


उधर बद्रीनाथ मंदिर में भी ITBP की टीमें मंदिर और नागरिक प्रशासन को दर्शन के सुचारू संचालन और तीर्थयात्रियों के मंदिर परिसर आदि में आवागमन आदि के प्रबंधन में मदद कर रही हैं. इस साल चार धाम यात्रा के शुरुआती दिनों में तीर्थयात्रियों की अभूतपूर्व संख्या देखी जा रही है क्योंकि इसे 2 साल बाद कोविड प्रतिबंध हटाने के बाद पूर्व की भांति श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया गया है.