आईटीबीपी के जवान पर जंगली हाथी ने किया हमला जिसमें उनकी जान चली गयी, अरुणाचल प्रदेश की सीमा के नजदीक जंगली हाथी के हमले में पवन कुमार शहीद हो गए थे।

जिसके बाद हवलदार पवन कुमार का मंगलवार को पूरे सैनिक सम्मान के साथ उनके पैतृक गांव सारण में अंतिम संस्कार किया गया।  भारत तिब्बत सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने भी अपने साथी को पूरे सैनिक सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी।

शहीद पवन कुमार के परिवार में उनकी पत्नी सुनीता, 16 वर्षीय पुत्र अंकुश व 14 वर्षीय पुत्री अंकिता के अलावा उनके माता-पिता तथा चार भाई भी हैं। 45 वर्षीय पवन कुमार 1992 में भारत तिब्बत सीमा सुरक्षा बल की 54वीं बटालियन में बतौर सिपाही भर्ती हुए थे और मौजूदा समय में बतौर हवलदार के पद पर कार्यरत थे।


शहीद पवन कुमार तीन दिसम्बर को अपनी ड्यूटी पर अरुणाचल प्रदेश की सीमा के पास तैनात थे तभी उन पर जंगली हाथी ने हमला कर दिया। जिसमें उनकी जान चली गई। विधायक श्याम सिंह राणा ने कहा कि शहीद नौजवान की शहादत को मैं नमन करता हूं। उन्होंने पवन कुमार के परिवार को 11 लाख रुपए की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है।