आयकर विभाग ने छत्तीसगढ़ के दो बड़े व्यवसायियों के कई ठिकानों पर आज एक साथ छापा (Raid) मारा है. छापे की ये कार्रवाई कवर्धा, जशपुर, बिलासपुर, रायगढ़ और दुर्ग  समेत कई जिलों में आधा दर्जन से अधिक स्थानों पर की जा रही है. आयकर विभाग की इस कार्रवाई 50 दर्जन से अधिक अधिकारी और कर्मचारी शामिल हैं. आईटी की टीमों ने जैसे ही इन कारोबारियों के यहां रेड मारी तो वहां अफरातफरी का माहौल हो गया. आईटी टीम ने रायपुर के रोमांस्क्यु विला, अशोका रत्न और पंडरी स्थित होटल पुनीत में दबिश दी है. आईटी की टीमें वहां सर्च अभियान  चला रही है.

यह भी पढ़े : Petrol-Diesel : 20 रुपये तक बढ़ सकते हैं पेट्रोल-डीजल के दाम, उच्चतम स्तर पर पहुंचा क्रूड ऑयल

जानकारी के अनुसार आयकर विभाग की टीमों ने दबिश की यह कार्रवाई सुबह करीब सात बजे शुरू की. कारोबारियों के विभिन्न ठिकानों पर आयकर विभाग की टीमें पहुंची और वहां ताबड़तोड़ सर्चिंग अभियान चला दिया. अचानक आयकर विभाग की दबिश से कारोबारियों के ठिकानों पर हड़कंप मच गया. आयकर विभाग की टीम कारोबारियों के ठिकानों पर दस्तावेजों की जांच में जुटी है. जांच में क्या सामने आया है इसका अभी तक खुलासा नहीं किया गया है.

जशपुर और कवर्धा में ठेकेदारों के घर दी दबिश

जशपुर में ठेकेदार विनोद जैन और उनके रिश्तेदार मुकेश जैन के घर 9 गाड़ियों में आयकर विभाग के करीब 20 लोगों की टीम एक साथ पहुंची. यहां टीम जबलपुर से पहुंची थी. वहीं कवर्धा में भी तीन ठेकेदारों के घर पर एक साथ दबिश दी गई. यहां टीम भोपाल और रायपुर से पहुंची थी. कवर्धा में कांग्रेसी नेता एवं क्रेडा के सदस्य कन्हैया अग्रवाल ,ठेकेदार विनोद अग्रवाल और नितेश अग्रवाल सहित कुछ अन्य के ठिकानों पर छापा मारा गया. कार्रवाई के दौरान टीम ने मीडिया से दूरी बनाई रखी.

यह भी पढ़े : Holashtak 2022: होलाष्टक कल से, होली से 8 दिन पहले शुभ कार्यों पर लग जाती है रोक, क्यों नहीं होते मांगलिक कार्य

आयकर विभाग की छापे की इस कार्रवाई के दौरान अधिकारी और कर्मचारी कारोबारियों के कारोबार से जुड़े दस्तावेजों की गहनता से जांच पड़ताल कर रहे हैं. प्रदेश में एक साथ कारोबारियों के कई ठिकानों पर कार्रवाई से व्यापारियों में चर्चाओं का बाजार गरमा गया. आयकर विभाग के अधिकारियों ने फिलहाल इस बारे में कुछ भी बताने से इनकार किया है.