उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को गोरखपुर स्थित एम्स के एमबीबीएस छात्रों के खेल एवं सांस्कृतिक समारोह का शुभारम्भ करते हुए कहा कि एक चिकित्सक के लिए स्वस्थ होना अत्यन्त आवश्यक है, जब वह स्वस्थ होगा, तभी दूसरों को भी स्वस्थ कर पाएगा। योगी ने आज यहां अपने सरकारी आवास पर गोरखपुर के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान की आधुनिक सी-आर्म मशीन, अल्ट्रावायलेट डिस्इंफेक्शन चैम्बर एवं सेनेटरी पैड वेङ्क्षण्डग मशीन का वर्चुअल उद्घाटन किया। इसके अलावा उन्होंने एम्स के एमबीबीएस छात्रों के खेल एवं सांस्कृतिक समारोह का वर्चुअल माध्यम से शुभारम्भ किया।

इस मौके मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान सरकार चिकित्सीय व्यवस्था को स्तरीय रूप प्रदान करने का कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि रोग के उपचार में बचाव की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। हॉस्पिटल में इंफेक्शन की सम्भावना रोग की जटिलता को बढ़ाती हैं। इसलिए सावधानी आवश्यक है। उन्होंने कहा कि ओटी व जहां सर्जिकल उपकरण रखे जाते हैं, वहां पूरी साफ-सफाई आवश्यक है। यूवी रैडिएशन डिस्इंफेक्शन चैम्बर की स्थापना से इंफेक्शन को रोकने में मदद मिलेगी। 

योगी ने कहा कि एक चिकित्सक के लिए स्वस्थ होना अत्यन्त आवश्यक है। जब वह स्वस्थ होगा, तभी दूसरों को स्वस्थ कर पाएगा। भारतीय मनीषियों का मानना है कि खेल-कूद से शरीर स्वस्थ होता है व सांस्कृतिक कार्यक्रमों से मानसिक स्वस्थ्यता प्राप्त होती है। जब एक चिकित्सक खेल-कूद व सांस्कृतिक कार्यक्रमों से जुड़ता है, तो वह समाज के लिए प्रेरणादायी होता है। उन्होंने कहा कि टोक्यो ओलम्पिक में भारत का सबसे बड़ा प्रतिनिधिमण्डल गया था। इस अन्तर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में भारत ने अब तक के सर्वाधिक मेडल प्राप्त किये। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह वर्ष देश की आजादी का अमृत महोत्सव वर्ष भी है। सरकार सभी जिलो में खिलाडिय़ों को सहयोग व सम्मान देने का कार्य कर रही है। गौरतलब है कि गोरखपुर एम्स द्वारा अध्ययनरत छात्रों के लिए खेल एवं सांस्कृतिक समारोह का आयोजन 30 अगस्त से 05 सितम्बर, 2021 तक किया जा रहा है। इस अवसर पर प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एवं सूचना संजय प्रसाद, सूचना निदेशक शिशिर सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।