आयकर विभाग (Income Tax Department) ने 18 नवंबर को रसायनों के निर्माण और अचल संपत्ति के सिलसिले में एक प्रमुख समूह पर तलाशी और जब्ती अभियान चलाया है। इस तलाशी अभियान में करीब ढाई करोड़ रुपये की बेहिसाब नकदी (seizes Rs 2.5 cr cash) और करीब एक करोड़ रुपये के जेवरात बरामद हुए हैं। तलाशी अभियान में गुजरात, सिलवासा और मुंबई के वापी और सरिगम में फैले 20 से अधिक परिसरों को कवर किया गया है।

विभाग (Income Tax Department) ने कहा कि समूह द्वारा बड़ी बेहिसाब आय और संपत्ति में निवेश को दर्शाने वाले दस्तावेजों, डायरी नोटिंग और डिजिटल डेटा के रूप में बड़ी संख्या में आपत्तिजनक सबूत पाए गए हैं और जब्त किए गए हैं। विभाग (Income Tax Department) ने एक बयान में कहा, सबूत स्पष्ट रूप से विभिन्न तरीकों को अपनाकर कर योग्य आय की चोरी का संकेत देते हैं, जैसे उत्पादन का दमन, खरीद को बढ़ाने के लिए माल की वास्तविक डिलीवरी के बिना फर्जी खरीद चालान का उपयोग, फर्जी जीएसटी क्रेडिट का लाभ उठाना और दूसरों के बीच फर्जी कमीशन खर्च का दावा आदि शमिल हैं।

समूह को अचल संपत्ति लेनदेन में भी धन प्राप्त हुआ है। इन सभी के परिणामस्वरूप बेहिसाब नकदी मिली है। तलाशी अभियान के दौरान, अचल संपत्तियों में निवेश में नकद लेनदेन और नकद ऋण के बारे में कई आपत्तिजनक सबूत भी जब्त किए गए हैं। 16 बैंक लॉकरों पर रोक (Ban on 16 bank lockers) लगा दी गई है। तलाशी के दौरान मिले दस्तावेजों/साक्ष्यों के प्रारंभिक विश्लेषण से संकेत मिलता है कि अघोषित आय का अनुमान 100 करोड़ रुपये से अधिक होने की संभावना है। मामले में आगे की जांच जारी है।