नई दिल्ली। चंद्र और मंगल अभियान के बाद अब भारत अमेरिका और अन्य देशों के साथ शुक्र की यात्रा में भी भाग लेने जा रहा है। इस अभियान का उद्देश्य वीनस के वायुमंडल के बारे में जानकारी जुटाना है। शुक्र ग्रह सल्फ्यूरिक एसिड के बादलों से ढका है और इसका वायुमंडल बेहद जहरीला और कोरोसिव है।

यह भी पढ़ें : पुलिस हिरासत में एक व्यक्ति की मौत के बाद थानेदार निलंबित, मृतक की पत्नी को सरकारी नौकरी का आश्वासन

ISRO के चेयरमैन एस सोमनाथ ने कहा कि इस अभियान पर कई वर्षों से काम चल रहा है लेकिन स्पेस एजेंसी अब अपना ऑर्बिटर वीनस पर भेजने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा, प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार है, पूरा प्लान तैयार है, लागत का अनुमान लगा लिया गया है, सारा काम पूरा हो चुका है। बहुत ही कम समय में भारत मिशन वीनस के लिए तैयार होगा।

ISRO अब दिसंबर 2024 में ऑर्बिटल मैनोवर्स को लॉन्च करने पर काम कर रहा है। जब पृथ्वी और वीनस एक सीध में आ जाएंगे वो ऐसा करेगा। अगर इस समय लॉन्चिंग होगी तो कम से कम प्रोपेलैंट इस्तेमाल करके इसे वीनस की ऑर्बिट में स्थापित किया जा सकेगा। हालांकि, फिलहालISRO ने इस मिशन की टाइमलाइन की आधिकारिक घोषणा नहीं की है।

यह भी पढ़ें : मिजोरम एमएडीसी चुनावः भाजपा ने आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत दर्ज कराई

ISRO के अलावा NASA भी वीनस के लिए 2 स्पेसक्राफ्ट भेजने की तैयारी कर रहा है। अमेरिकी स्पेस एजेंसी ने वीनस के बारे में पता लगाने के लिए लगभग 1 अरब डॉलर खर्च करने की योजना बनाई है। इसी तरह यूरोपियन स्पेस एजेंसी ने भी वीनस के लिए एक मिशन का ऐलान किया है। यूरोप का एनविजन वीनस की कक्षा में स्थापित होने वाला अगला ऑर्बिटर होगा।