इजरायल रक्षा बलों (आईडीएफ) ने उत्तरी गाजा पट्टी में खोदी गई सुरंगों के एक नेटवर्क पर रात भर हुए हमले में हमास के कम से कम 20 वरिष्ठ अधिकारियों और सैकड़ों आतंकवादियों को मार गिराया तथा समूह के रॉकेट निर्माण प्रणाली को नष्ट कर दिया। इजरायली सुरक्षा सूत्र ने एन 12 प्रसारणकर्ता को यह जानकारी दी। 

इससे पहले गुरुवार की रात आईडीएफ ने एक अस्पष्ट बयान जारी कर कहा,  उसके हवाई और जमीनी सैनिक वर्तमान में गाजा पट्टी में हमला कर रहे हैं। कुछ अंतरराष्ट्रीय मीडिया आउटलेट्स के साथ-साथ हमास के उग्रवादियों ने इस बयान को एन्क्लेव में एक इजरायली जमीनी अभियान की शुरुआत के रूप में माना। प्रसारक के अनुसार, बयान जारी किया गया था कि इजरायली थल सेना के वाहन और टैंक इजरायल और गाजा को अलग करने वाली बाड़ की ओर बढ़ रहे थे जबकि हमास के गुर्गों का मानना था कि इजराइली सैनिकों ने पहले ही बाड़ को पार कर लिया था। इसने कथित तौर पर हमास के आतंकवादियों को भूमिगत सुरंगों के नेटवर्क में आश्रय की तलाश करने के लिए प्रेरित किया। 

आईडीएफ के प्रवक्ता जोनाथन कॉनरिकस ने बाद में इनकार किया कि इजरायल की सेना ने गाजा पट्टी में प्रवेश किया था। आईडीएफ के अनुसार, यह 40 मिनट का एक बड़ा हवाई अभियान था जिसमें 160 विमान शामिल थे, जिन्होंने लगभग 450 मिसाइलों को एन्क्लेव के सुरंग नेटवर्क को लक्षित कर गिराया। ऑपरेशन के बाद आईडीएफ ने कहा कि उसने हमास ‘मेट्रो’ नेटवर्क के कई किलोमीटर को नुकसान पहुंचाया है। सूत्र ने प्रसारक से कहा, गुरुवार को हमने हमास के 20 वरिष्ठ अधिकारियों को मौत के घाट उतारा और इसमें सैकड़ों लोग मारे गए। हमने हमास के रॉकेट निर्माण प्रणाली के अधिकांश हिस्से को नष्ट कर दिया है, हमने सुरंगों की प्रणाली को पंगु बना दिया है, जो उनका रणनीतिक उपकरण था। हमने कई अन्य उपलब्धियां हासिल कीं जिन्हें वे अभी भी नहीं समझते हैं।  

इजरायली सेना लंबे समय से योजना बना रही है कि एन्क्लेव के सुरंग नेटवर्क के खतरे को हमास से लडऩे के अवसर में कैसे बदला जाए जिससे इन सुरंगों को ‘सामूहिक कब्र’ में बदल दिया जाए। यह अभी भी स्पष्ट नहीं है कि कितने हमास के आतंकवादियों को सुरंगों में दफनाया गया है और साथ ही कुल कितने का नुकसान हुआ है। इजरायल और फिलीस्तीन के बीच स्थित सीमा गाजा पट्टी पर तनाव की स्थिति सोमवार शाम को बढ़ गई। तब से अब तक गाजा पट्टी से इजरायली क्षेत्र में लगभग 1,750 रॉकेट दागे जा चुके हैं। इजरायल ने हमास के खिलाफ कई हमले को अंजाम देकर इसका जवाब दिया है।