लेबनान की ओर से दागे गए 3 रॉकेट्स के जवाब में इजरायल ने ताबड़तोड़ हमले किए हैं। इजरायल की ओर से उन रॉकेट्स का जवाब हाथो—हाथ दे दिया गया था, लेकिन अब गुरुवार को एक बार फिर से उसने एयर स्ट्राइक की है। पिछले 7 सालों में यह पहला मौका है, जब इजरायल ने लेबनान पर एयर स्ट्राइक की है।

इसके साथ ही दोनों देशों के बीच रिश्ते काफी हद तक बिगड़ गए हैं। इजरायल की सेना ने एक बयान में बताया कि जेट विमानों ने उन स्थलों पर हमले किये, जहां से पिछले दिन रॉकेट दागे गए थे। इसके साथ ही विमानों ने एक अतिरिक्त लक्ष्य को भी निशाना बनाया, जिसका इस्तेमाल अतीत में इजराइल पर हमला करने के लिए किया गया था।

इजरायल डिफेंस फोर्सेज ने गोलाबारी के लिए लेबनान को जिम्मेदार ठहराया और इजराइल के नागरिकों और इजराइल की संप्रभुता को नुकसान पहुंचाने को लेकर भविष्य में सतर्क रहने की चेतावनी दी। रात के समय किए गए हवाई हमलों को राजनीतिक रूप से संवेदनशील समय में तनाव बढ़ाने वाले कदम के तौर पर देखा जा रहा है। इजराइल का नया आठ-दलीय सत्ताधारी गठबंधन एक नाजुक संघर्षविराम के तहत शांति बनाए रखने की कोशिश कर रहा है, जिसने मई में गाजा में हमास के साथ 11 दिवसीय युद्ध को समाप्त किया था। लेबनान से इस सप्ताह रॉकेट हमले की कई घटनाएं हुई हैं जो इजराइल की उत्तरी सीमा पर केंद्रित थीं।

इस बीच अमेरिका ने इजराइल पर हमलों की निंदा की है। हिजबुल्लाह के स्वामित्व वाले अल-मनार टीवी ने देर रात लगभग 2 बजे हमलों की सूचना देते हुए कहा कि इसके तहत मरजायौन जिले के महमौदिया गांव में एक खाली क्षेत्र को निशाना बनाया गया। इजराइली सेना के अरबी भाषा के प्रवक्ता अविचाई अद्राई ने कहा कि लेबनान के क्षेत्रों में जो कुछ भी होता है उसके लिए लेबनान सरकार जिम्मेदार है। उसने दक्षिण लेबनान से इजराइल पर और अधिक हमले किए जाने के खिलाफ चेतावनी दी। इजराइल की सेना ने कहा कि बुधवार को लेबनान से इजराइली क्षेत्र में तीन रॉकेट दागे गए और सेना ने लगातार तोपखाने का इस्तेमाल करके उनका जवाब दिया। यह घोषणा उत्तरी इजराइल में संभावित रॉकेट हमले की चेतावनी को लेकर सायरन बजने के बाद हुई।

लेबनानी सेना ने अपने यहां से दागे जाने वाले रॉकेट के जवाब में लेबनान के गांवों पर इज़राइल द्वारा तोपों से 92 गोले दागे जाने की सूचना दी। इसने कहा कि इजराइली तोपखाने की गोलाबारी के परिणामस्वरूप राशा अल-फुखर गांव में आग लग गई। लेबनानी सेना ने एक बयान में यह भी कहा कि वह सीमावर्ती क्षेत्र में गश्त कर रही थी और उसने कई चौकियों की स्थापना की थी। उसने यह पता लगाने के लिए एक जांच शुरू की थी कि रॉकेट कहां से दागे गए। लेबनान के सुरक्षा अधिकारियों ने इजराइली हवाई हमले की तुरंत पुष्टि नहीं की। हाल के महीनों में इस तरह की कई घटनाएं हो चुकी हैं।