आखिरकार बीस साल बाद अमरीकी सेना की अफगानिस्तान से विदाई हो चुकी है। इस बीच अमरीका ने अनुमान जताया है कि अफगानिस्तान में इस्लामिक स्टेट (आईएस) आतंकवादी समूह के करीब 2,000 लड़ाके हैं। अमेरिकिन सेंट्रल कमांड के कमांडर केनेथ मैकेंजी ने प्रेस कांफ्रेंस में यह बात कही। मैकेंजी ने कहा कि अफगानिस्तान में अभी कम से कम 2,000 कट्टर आईएसआईएस लड़ाके हैं।

उधर, तालिबान ने अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी पूरी होने का स्वागत किया है। तालिबान के एक प्रवक्ता ने मंगलवार सुबह यह जानकारी दी। अमेरिका ने घोषणा की है कि अफगानिस्तान से उसके सैनिकों की वापसी पूरी हो गई है। तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्लाह मुजाहिद ने ट्विटर पर लिखा, अफगानिस्तान में अमेरिकी सैनिकों का अंतिम समूह सोमवार की आधी रात को काबुल हवाई अड्डे से रवाना हो गया। 

उन्होंने कहा, इस तरह हमारा देश पूरी तरह आजाद हो गया है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने घोषणा की थी कि मंगलवार ( 31 अगस्त) तक अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी पूरी हो जाएगी। इस निर्धारित समय सीमा के एक दिन पहले सोमवार रात को अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों और गैर-सैन्य कर्मियों के अंतिम समूह को लेकर अमेरिकी विमान काबुल हवाई अड्डे से रवाना हुआ।

उधर, अफगानिस्तान में अमेरिका की अपने कर्मचारियों और नागरिकों की निकासी पूरी करने के बावजूद 100 से 200 के बीच की संख्या में अमेरिकी रह गये हैं, जो जल्द से जल्द इस युद्धग्रस्त देश से निकलना चाहते हैं। अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान यह जानकारी दी। ब्लिंकन ने कहा, कुछ अमेरिकी अफगानिस्तान में अभी भी हैं, जो इस देश को छोड़ना चाहते हैं। इनकी संख्या 100 से 200 के बीच है। हम इनकी वास्तविक संख्या जानने का प्रयास कर रहे हैं।