यूपी में धर्म परिवर्तन के कई मामले सामने आते हैं। इस धर्म परिवर्तन पर राजनीति तक शुरू हो गई है। योगी सरकार मुस्लिम के हमेशा से ही खिलाफ रही है। इसी बीच यूपी के एक सीनियर आईएएस अफसर इफ्तखारुद्दीन का धर्मांतरण से जुड़ा कथित वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है।

वीडियो में दिखाया गया है कि इफ्तखारुद्दीन अपने सरकारी आवास पर एक धर्मगुरु के साथ कुछ लोगों के सामने इस्‍लाम धर्म अपनाने के फायदे गिनाते नजर आ रहे हैं।

आरोप है कि आईएएस इफ्तखारुद्दीन अपने सरकारी आवास पर लोगों को इस्‍लाम का पाठ पढ़ा रहे हैं। वीडियो में एक मुस्लिम वक्‍ता वहां मौजूद लोगों को इस्‍लाम धर्म कबूल करने के फायदे बताने के साथ कई धर्मानातंर की घटनाएं भी बता रहा है। वीडियो में वह कहते हुए नजर आ रहे है कि अल्‍लाह ने हमें यूपी के तौर पर ऐसा सेंटर दिया है जहां से पूरे देश और दुनिया में अपना काम कर सकते हैं।


पंजाबी ने कबूला इस्‍लाम


वायरल वीडियो में धर्मगुरु यह कहते हुए नजर आ रहे है कि पिछले दिनों पंजाब में एक शख्‍स ने इस्‍लाम धर्म कबूल किया। मैंने उनसे कारण पूछा तो उन्‍होंने बताया कि बहन की मौत के कारण इस्‍लाम कबूल किया है। धर्मगुरु ने कहा, 'उस शख्स ने कहा कि बहन को मरने पर जब जलाया गया तो उसका कपड़ा जल गया और वह निर्वस्‍त्र हो गई।

वहां मौजूद सभी लोग देख रहे थे तो मुझे बहुत शर्म आई। फिर मेरे दिल में आया कि ये लोग आज मेरी बहन को देख रहे हैं तो कल मेरी बेटी को भी देखेंगे। इसलिए मैंने इस्‍लाम कबूल कर लिया क्‍योंकि इससे अच्‍छा कोई धर्म नहीं है।
डेप्‍युटी सीएम

दूसरी ओर, डेप्‍युटी सीएम केशव प्रसाद मौर्य का कहना है कि सरकार के संज्ञान में ऐसा कोई वायरल वीडियो नहीं आया है। अगर ऐसा कुछ है तो गंभीरता से जांच कराई जाएगी और कड़ा ऐक्‍शन लिया जाएगा। वहीं, इस मामले को लेकर मठ मंदिर समन्वय समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष भूपेश अवस्थी ने ने ट्वीट कर सीएम योगी आदित्‍यनाथ से शिकायत की है।