भारतीय रेलवे ने बड़ा तोहफा देते हुए घोषणा की है कि कोरोना खत्म होने के बाद भी विशेष ट्रेनें चलती रहेंगी। इसके तहत कोरोना काल में चलाई जा क्लोन ट्रेनों को आगे भी जारी रखा जाएगा। रेलवे ने कहा है कि इनको आम जनता से बहुत अच्छा रिस्पॉन्स मिला है। रेलवे बोर्ड चेयरमैन वीके यादव के अनुसार, क्लोन ट्रेन का प्रयोग अब तक सफल रहा है और इसके आधार पर यह तय किया गया है कि क्लोन ट्रेन कोविड के बाद के समय में भी चलती रहेंगी। भारतीय रेलवे ने कहा है कि वर्तमान में क्लोन ट्रेनें लगभग 72% से 80% भर जाती हैं।
भारतीय रेलवे के नेशनल रेल प्लान के तहत साल 2030 तक नई बुलेट ट्रेन परियोजनाओं से लेकर स्टेशनों को वर्ल्ड क्लास बनाने की योजना है। इसके अलावा रेलवे इंफ्रास्ट्रक्चर को विश्व स्तरीय तैयार करने का खाका खींचा गया है। रेलवे की माने तो मोदी सरकार का नेशनल रेल प्लान देश में रेलवे की तस्वीर बदल देगा।

रेलवे बोर्ड चेयरमैन वीके यादव के मुताबिक रेलवे ने वेटिंग टिकट खत्म करने का प्लान भी तैयार किया है। हालांकि अभी कोरोना काल में रेलवे जो भी 1089 ट्रेन चला रहा है, उनमें से 30 से 40 फीसदी ट्रेनें अभी भी बहुत ही कम ऑक्युपेंसी पर चल रही हैं। रेलवे सभी रूट पर बारीकी से नजर रख रहा है, जहां पर भी पैसेंजर कि ज्यादा डिमांड रहती है वहां या तो हम क्लोन ट्रेन चला रहे हैं या इस रूट पर और गाड़ियां बढ़ा रहे हैं। कोरोना को देखते हुए धीरे-धीरे ट्रेनों का परिचालन सामान्य किया जा रहा है।