चेन्नई सुपर किंग्स की कमान फिर से संभालने वाले महेंद्र सिंह धोनी का मानना है कि पूर्व कप्तान रवींद्र जडेजा पर कप्तानी का दबाव पड़ रहा था, जिससे उनका प्रदर्शन भी प्रभावित हो रहा था। सनराइजर्स हैदराबाद को 13 रन से हराने के बाद धोनी ने कहा कि इस सीजन में जडेजा को कप्तानी देने की योजना पहले से ही थी। हालांकि जब जडेजा ने कप्तानी छोड़ने का निर्णय लिया तो लोगों ने उनके निर्णय का पूरा सम्मान किया। 

ये भी पढ़ेंः ये है 'ड्रग्स आतंक' की गोली, जिसने सीरिया के तानाशाह को किया मालामाल


धोनी ने कहा, जडेजा को पिछले सीजन से ही पता था कि वह इस साल कप्तानी करने जा रहे हैं। पहले दो मैचों में मैं उनके सहायक की भूमिका में था और फिर मैंने उनसे कहा कि वह अपने निर्णय खुद लें। जब आप कप्तान बन जाते हो, तो कई चीजें आपके दिमाग़ को प्रभावित करती हैं। मुझे लगता है कि कप्तानी से उनकी तैयारी और प्रदर्शन प्रभावित हुआ। 

ये भी पढ़ेंः भारत बना रहा फ्यूचर के ये खतरनाक हथियार, चीन-पाकिस्तान के देखते ही छूट जाएंगे पसीने


उन्होंने आगे कहा, एक खिलाड़ी से कप्तान बनना एक धीमी प्रक्रिया होती है। आपको मैच के महत्वपूर्ण क्षणों में अपनी जिम्मेदारी लेते हुए कुछ महत्वपूर्ण निर्णय लेने होते हैं। जब आप कप्तान बन जाते हैं तो आपको अपने खेल के अलावा भी कई चीजों पर ध्यान देना होता है। धोनी को उम्मीद है कि अब जडेजा की फॉर्म फिर से वापस आ सकेगी। उन्होंने कहा, जडेजा इतना दबाव ले रहे थे कि उनसे कैच छूटने लगे थे। अमूमन ऐसा नहीं होता है। इसके अलावा बाकी खिलाड़ी भी फील्डिंग में गलतियां कर रहे थे। हमने इस सीजन अब तक 17-18 कैच छोड़े हैं। लेकिन अब हमें उम्मीद है कि हम वापसी करेंगे।