मुंबई इंडियंस के खिलाफ मिली जीत में अहम भूमिका अदा करने वाले रॉयल चेलेंजर बेंगलोर के तेंज गेंदबाज हर्षल पटेल का कहना है कि उन्हें पता था कि अकेले स्लो गेंद से मदद नहीं मिलेगी, इसलिए उन्होंने यार्कर पर काम किया। हर्षल ने मुंबई के खिलाफ आईपीएल के पहले मुकाबले में 27 रन देकर पांच विकेट झटके थे।

हर्षल ने कहा, जब हम पहले कैंप के लिए इकट्ठा हुए वहां मुझे बताया गया कि मुझे डेथ ओवरों में कम से कम दो ओवर डालने होंगे। उन्होंने कहा, इससे मुझे स्पष्टता मिली और मैंने अपने कौशल पर काम करना शुरू किया तथा बल्लेबाज के खिलाफ रणनीति बनाने पर काम किया।

हर्षल ने कहा, धीमी गेंद मेरी बड़ी ताकत है लेकिन यार्कर ऐसा है जिस पर मैंने काम किया। अगर आप डेथ ओवर में गेंदबाजी करते हैं तो आपको यार्कर पर काम करने की जरूरत है। आप सिर्फ लेंग्थ और धीमी गेंद नहीं फेक सकते। उन्होंने कहा, यार्कर ऐसा है जिस पर मैं लंबे समय से काम कर रहा हूं लेकिन मैं मैच में इसे इस्तेमाल करने पर भरोसे में नहीं था।