अमेरिका की मोबाइल फोन बनाने वाली कंपनी एपल चीन को छोड़कर अब भारत में शिफ्ट होने जा रही है। इसके तहत आईफोन बनाने वाली यह कंपनी अब जल्द ही भारत में बड़ा निवेश करने जा रही है। यह कंपनी ताइवान की कंपनी फॉक्सकॉन (Foxconn) से जुड़ी है। ये कपंनी भारत में अपनी फैक्ट्री को और बड़ा करने की तैयारी में है, जो चेन्नई के पास श्री पेरुंबुदूर में स्थित है। इसके लिए कंपनी करीब 1 अरब डॉलर यानी लगभग 7500 करोड़ रुपये निवेश करने की सोच रही है। यहां ताइवान की ये कॉन्ट्रैक्ट मैन्युफैक्चरर कंपनी एप्पल के आईफोन असेंबल करती है।
कपंनी के इस कदम को ऐसे देखा जा रहा है कि एप्पल अपना प्रोडक्शन चीन से शिफ्ट करने की सोच रहा है, क्योंकि कोरोना वायरस की वजह से पहले ही बीजिंग और वॉशिंगटन के बीच ट्रेड वॉर छिड़ा हुआ है। एक सूत्र ने न्यूज एजेंसी रॉयटर्स को बताया कि एप्पल की तरफ से इसके क्लाइंट्स से रिक्वेस्ट की गई है कि वह अपना प्रोडक्शन चीन से बाहर कहीं शिफ्ट करें और उसका असर देखने को भी मिल रहा है।
यह भी खबर है कि फॉक्सकॉन ने श्रीपेरुंबदूर प्लांट में निवेश करने की योजना बनाई है, जहां पर आईफोन का एक्सआर मॉडल बना है। उसने बताया कि ये निवेश 3 सालों के अंदर होगा। फॉक्सकॉन द्वारा एप्पल के जो अन्य मॉडल चीन में बनाए जाते थे, उन्हें भी अब भारत के प्लांट में ही बनाया जाएगा। ताइवान के ताइपेई में फॉक्सकॉन का मुख्यालय है और कंपनी के इस कदम से श्रीपेरुंबदूर प्लांट में करीब 6000 नौकरियां निकलेंगी। बता दें कि इस कंपनी का आंध्र प्रदेश में भी एक प्लांट है, जिसमें कंपनी चीन की शाओमी कंपनी के लिए स्मार्टफोन बनाती है।
फॉक्सकॉन के चेयरमैन लिऊ योंग वे ने पिछले ही महीने कहा था कि कंपनी भारत में अपना निवेश बढ़ाएगी, लेकिन कोई विस्तृत जानकारी नहीं दी थी। भारत में स्मार्टफोन की कुल सेल का 1 फीसदी हिस्सा एप्पल के पास है, जो कि दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी स्मार्टफोन बनाने वाली कंपनी है। एप्पल कंपनी अपने कुछ मॉडल बेंगलुरु में स्थित ताइवान की कंपनी विस्ट्रॉन कॉर्प से भी असेंबल करवाती है। बता दें कि ये कंपनी अपना एक और नया प्लांट शुरू करने वाली है, जिसमें यह कुछ और एप्पल मोबाइल फोन बनाएगी।