इंडियन ऑयल कॉपोरेशन  लि.(आईओसीएल) के सीसीएम, पूर्वोतर के सातों राज्यों के प्रमुख तथा असम के एसएलसी उतिया भट्टाचार्य ने आज कहा कि बिना परेशानी से प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत पूर्वोत्तर के प्रत्येक परिवार को रसोई गैस उपलब्ध कराने के लिए आईओसीएल प्रतिबद्ध है । 

उन्होंने आज मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि यह हमारे लिए खुश खबरी है कि देश के प्रत्येक रसोई घर घुआ से मुक्त  होगा और रसोई गैस सभी को मिलेगी  । उन्होंने कहा कि हमारे लगातार प्रयास के तहत पूर्वोत्तर में एलपीजी के इस्तेमाल 1 मई, 2017 के 48 प्रतिशत से बढ़कर 1 दिसंबर, 2018  तक 78 प्रतिशत हुआ है । 

पिछले 19 महीने के भीतर 29 लाख लोगों को  एलपीजी कनेक्शन दिया गया है। उन्होंने कहा कि हम सार्वजानिक एलपीजी कनेक्शन पर जोर देते आए हैं जो उज्ज्वला  योजना का लक्ष्य है । श्री भट्टाचार्य ने कहा कि पूर्वोत्तर राज्यों में एलपीजी के कारोबार वर्ष 1971 में शुरू हुआ था । 1 मई, 2017 तक यहां 48 एलपीसी  कनेक्शन प्रदान किए जा चुके हैं। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से 2016 के 13 मई को इस योजना की घोषणा की गई थी और इसके बाद 2017 के 13 मई को इस योजना का शुभारंभ किया गया । पूर्वोतर के राज्यों के लिए पीएसयू तेल प्रतिष्ठान पूर्वोत्तर के राज्यों के लिए 33 लाख कनेक्शन प्रदान किए हैं । इंडियन ऑयल ने ग्राहकों को 27 लाख कनेक्शन प्रदान किए हैं । 

उन्होंने बताया कि अगर एक वाक्य में कहा जाए, कि पिछले 46 पलों में हम 33 लाख परिवारों के गैस के कनेवशन दिए थे, जोकि पीमयूवाई के लिए 19 महींनों में 33 लाख गैस कनैक्शन प्रदान कर पाए हैं  । दूसरी और भट्टाचार्य ने कहा कि 5 किलोग्राम सिलिंडर के बहुताय प्रयोग के जरिए पीमयूवाई हितधारक भी लाभान्वित होंगे । 

उन्होंने कहा कि पीएमयूवाई के हितधारकों   को मिल रहे ब्याजमुक्त  ऋण के संबंध में जागरूकता लाने के लिए पूर्वोत्तर में एलपीजी टीम काम करेगी । उन्होंने कहा कि इंडियन ऑयल ने पूर्वोत्तर के दुर्गम स्थानों में भी काम करने का प्रयास जारी रखा है । इस योजना से अब तक 29 लाख लाभान्वित हुए है जिनमें 22 लाखको इंडियन ऑयल  की और एलपीजी प्रदान किया गया है । 

पीएमयूवाई -2 के तहत एससी, एसटी लोगों के बीच आर्थिक-सामाजिक गोष्टी गणना के बाद प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण), अंत्योदय अन्न योजना, अरण्य निवासी, अन्य पिछडी जाति, चाय जनजाति, नदी द्वीप, द्वीप निवासी समेत 7 संप्रदायों में एलपीजी के वितरित किए जाएंगे ।

 मालूम हो कि प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत इंडियन ऑयल पूर्वोत्तर के हरेक परिवारवालों को साफ व स्वच्छ खाना पकाने के लिए अब तक असम में 24 लाख, अरूणाचल प्रदेश में 36 हजार, मणिपुर में 1 लाख, मेघालय में 1 लाख 30 हजार मिजोरम में 25 हजार नागालैंड में 46 हजार तथा त्रिपुरा में 1.9 लाख यानि  अब तक कुल 29 लाख परिवारवालों को नि:शुल्क  एलपीजी का कनेक्शन  दिया गया है ।