देश में डाक सेवाओं का संचालन करने वाला इंडिया पोस्ट अपने ग्राहकों को 9 तरह की सेविंग स्कीम ऑफर करता है। इनमें से कुछ बचत योजनाओं ऐसी हैं, जो ग्राहकों को दोहरा फायदा देती है। अर्थात इन योजनाओं में निवेश करके आप मोटा ब्याज तो काम ही सकते हैं, साथ ही यहां निवेश कर आप आयकर अधिनियम की धारा 80सी के तहत आयकर छूट भी प्राप्त कर सकते हैं।


इंडिया पोस्ट की वेबसाइट के अनुसार इस तरह की बचत योजनाओं में टाइम डिपॉजिट (TD) अकाउंट, पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF), सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम (SCSS) और नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट्स (NSC) शामिल हैं।


टाइम डिपॉजिट अकाउंट

टाइम डिपॉजिट या फिक्स्ड डिपॉजिट में एक साल, दो साल और तीन साल की मैच्योरिटी पीरियड के निवेश पर आपको 6.9 फीसद ब्याज मिलता है। वहीं, पांच साल का टाइम डिपॉजिट अकाउंट 7.7 फीसद रिटर्न ऑफर करता है। इस योजना में ब्याज की गणना त्रैमासिक होती है, लेकिन भुगतान वार्षिक होता है। पांच वर्षीय अकाउंट के तहत निवेश पर आयकर अधिनियम की धारा 80 सी में टैक्स छूट का लाभ मिलता है।


15 वर्षीय PPF अकाउंट


इस योजना में 7.9 फीसद वार्षिक ब्याज मिलता है, जो कि हर साल के बाद मूलधन में जुड़ जाता है। कोई भी व्यक्ति सिर्फ 100 रुपये से यह खाता खुलवा सकता है। इस खाते में किसी वित्त वर्ष में कम से कम 500 रुपये जमा कराना आवश्यक होता है। वहीं, खाताधारक एक वित्त वर्ष में अधिकतम 1,50,000 रुपये तक जमा करा सकता है। यहां खाताधारक की ब्याज आय भी टैक्स फ्री होगी।


सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम

इस योजना में कोई भी 60 साल या अधिक आयु का व्यक्ति निवेश कर सकता है। यह योजना 8.6 फीसदी वार्षिक ब्याज दर ऑफर करती है। इस योजना में खाता खोलने के लिए कम से कम 1,000 रुपयों की आवश्यकता होती है। वहीं, अधिकतम राशि 15 लाख से ज्यादा नहीं होनी चाहिए।


नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (NSC)


इस योजना में ग्राहक 7.9 फीसदी ब्याज प्राप्त कर सकता है। यह ब्याज सालाना मूलधन में जुड़ जाता है, किंतु ब्याज का भुगतान मैच्योरिटी के समय होता है। इंडिया पोस्ट के अनुसार, अगर आप इस योजना में 100 रुपये निवेश करते हो, तो पांच सालों बाद आपको मैच्योरिटी के वक्त 146.93 रुपये मिलेंगे।