प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि पूरे विश्व में अच्छी सेहत और तंदरूस्ती की तलाश में योग पद्वति एक बड़ा जन आंदोलन बन चुकी है। मोदी ने देहरादून के वन अनुसंधान संस्थान में गुरूवार को आयोजित चौथे अंतरराष्ट्रीय योग दिवस कार्यक्रम में कहा कि पूरे विश्व ने योग को अपना लिया है और इसका उदाहरण यह है कि अंतराष्ट्रीय स्तर पर यह हर साल मनाया जाने लगा है। 

उन्होंने कहा कि योग ने पूरे विश्व को बीमारी से अच्छे स्वास्थ्य की तरफ जाने का रास्ता दिखाया है और यह लोगों को आपस में जोड़ता है, उन्हें समाहित करने में मदद करता है। मोदी ने कहा कि भारतीयों को अपनी इस धरोहर पर गर्व होना चाहिए और इससे इसकी समद्धता को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि योग आज पूरे विश्व में एकीकरण की बहुत बड़ी ताकत बन चुका है। उन्होंने कहा है कि योग केवल शरीर को स्वस्थ रखने के लिए शारीरिक अभ्यास नहीं है। यह स्वास्थ्य आश्वासन का पासपोर्ट है, तंदरूस्ती और सेहत की कुंजी है। योग केवल सुबह में किया जाने वाला शारीरिक अभ्यास नहीं है, परिश्रम और संपूर्ण जागरूकता के साथ की जाने वाली दैनिक गतिविधियां भी योग का हिस्सा है। उन्होंने कहा , विश्व में योग नियंत्रण और संयम का विश्वास है, मानसिक तनाव से गुजर रही दुनिया में योग शांति प्रदान करता है, विचलित विश्व में योग ध्यान में सहायता करता है, भय के विश्व में योग आशा, शक्ति और साहस का विश्वास कराता है। इस वर्ष योग दिवस की थीम शांति के लिए योग है और 2017 में इसकी थीम शांति और समरसता थी। 

आपको बता दें कि पूर्वोत्तर के राज्यों में जोश और उत्साह के साथ योग दिवस मनाया गया। इस दौरान यहां के मुख्यमंत्रियों, नेताओं सहित आम जनता ने योग दिवस में बढ़चढ़ कर अपनी भागीदारी निभाई। 

आप भी तस्वीरों में देखिए पूर्वोत्तर का नजारा

योग करते हुए त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब

मुख्यमंत्री देब ने Tweet कर अपने वीडियो को भी किया शेयर

असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल

केंद्रीय गृह राज्यमंत्री किरण रिजिजू