कोरोना वायरस के चलते अंततराष्ट्रीय उड़ानों पर रोक को बढ़ाकर 31 जुलाई तक कर दिया गया है। आज DGCA की ओर से इस संबंध में आदेश जारी किया गया है। हालांकि इस अवधि में भी कुछ निश्चित रूटों पर फ्लाइट्स के उड़ान की मंजूरी रहेगी। यह अनुमति केस-टू-केस बेसिस पर दी जाएगी। इसके अलावा कार्गो ऑपरेशंस और डीजीसीए की ओर से विशेष तौर पर मंजूरी प्राप्त उड़ानों के संचालन की अनुमति होगी।

कोरोना संकट की शुरुआत के बाद से ही भारत ने 23 मार्च, 2020 से इंटरनेशनल फ्लाइट्स पर रोक लगा दी थी। लेकिन मई 2020 से वंदे भारत मिशन के तहत स्पेशल इंटरनेशनल फ्लाइट्स चल रही हैं।

इसके अलावा कुछ निश्चित देशों के साथ 'एयर बबल' अरेंजमेंट के तहत फ्लाइट्स का संचालन हो रहा है। अमेरिका, ब्रिटेन, यूएई, केन्या, भूटान और फ्रांस समेत कुल 24 देशों के साथ भारत ने ऐसा करार किया है। एयर बबल पैक्ट के तहत दो देशों के बीच स्पेशल इंटरनेशनल फ्लाइट्स सीधे उनके ही शहरों के बीच संचालित होगी।

डीजीसीए के आदेश के मुताबिक 31 जुलाई तक नियमित उड़ानों पर भले ही रोक जारी रहेगी। लेकिन सभी कार्गो फ्लाइट्स और विशेष उड़ानों के संचालन को मंजूरी रहेगी।