जोरहाट।  जिला उपायुक्त कार्यालय के अवकाश प्राप्त नाजिर रातुल बोरा को पुलिस ने पूछताछ के लिए हिरासत में लिया । बताया जाता है कि मैट्रिक के प्रमाण -पत्र में गलत जानकारी के जरिए नौकरी हासिल करने को लेकर श्री बोरा के खिलाफ़ अदालत में मामला दायर हुआ था । 

अदालत ने पुलिस को मामले की जांच का आदेश दिया था । पुलिस द्वारा अदालत में अंतिम जांच रिपोर्ट दाखिल कर दी गई । मगर इसे चुनौती दिए जाने के बाद अदालत ने पुन : जांच करने को कहा । इसके बाद पुलिस ने शुक्रवार की रात श्री बोरा को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया । 

इसके अलावा श्री बोरा पर फोरलेन निर्माण के जमीन अधिग्रहण के एवज में मिले 17 लाख रुपए का मुआवजा भी गबन करने का आरोप था। यह आरोप लगाते हुए उनके ही एक रिश्तेदार ने मामला भी दर्ज कराया था । इसके बाद पूर्व नाजिर ने सदर थाना में शिकायतकर्ता को 17 लाख रुपए का चेक दिया । इधर लंबी पूछताछ के बाद कल शाम श्री बोरा को रिहा कर दिया गया ।