अब एक क्लिक से प्रदेशभर के 72 हजार स्कूल की जानकारी मिनटों में मिल जायेगी। स्कूल में कितने शिक्षक हैं, मूलभूत संरचना की स्थिति जानना आसान होगा। राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) और बिहार शिक्षा परियोजना परिषद द्वारा दीक्षा मॉनिटरिंग सिस्टम सॉफ्टवेयर तैयार किया गया है। 

इसमें प्रदेशभर के प्राथमिक, मध्य, माध्यमिक और उच्च माध्यमिक स्कूल को जोड़ा गया है। प्लस टू ललित नारायण लक्ष्मी नारायण प्रोजेक्ट गर्ल्स स्कूल त्रिवेणीगंज सुपौल के शिक्षक सौरभ सुमन ने यह सॉफ्टवेयर तैयार किया है। सौरभ सुमन ने बताया कि इस सॉफ्टवेयर से बिहार के किसी भी स्कूल की जानकारी तुरंत प्राप्त की जा सकती है। 

किस स्कूल में कितने बेंच-डेस्क है, लैब और लाइब्रेरी की स्थिति क्या है, खेल का मैदान और शौचालय की संख्या तुरंत पता चल जायेगी। इसके अलावा शिक्षकों की संख्या, छात्रों की संख्या भी पता चल जायेगी। शिक्षक सुमन सौरभ ने बताया कि यह काम पूरा पेपरलेस होगा। इसमें यू-डायस से जुड़े सभी स्कूलों को शामिल किया गया है। दीक्षा या निष्ठा प्रशिक्षण से कितने शिक्षक अब तक प्रशिक्षण लिये हैं, इसकी जानकारी भी तुरंत प्राप्त होगी। इसके लिए एससीईआरटी द्वारा हर जिले में टेक्निकल टीम बनायी गयी है। 

पटना प्रमंडल के आरडीडीई प्रेमचंद्र ने कहा, 'इस सॉफ्टवेयर से काम करना आसान होगा। किसी भी स्कूल की जानकारी लेना आसान हो जायेगा। जो काम मैनुअल होता था, वो अब ऑनलाइन इस सॉफ्टवेयर के माध्यम से हो जाएगा।'