लोगों को अब रोजमर्रा की वस्तुओं के लिए ज्यादा कीमत चुकानी पड़ेगी। देश में दैनिक उपभोग की सबसे आवश्यक वस्तुओं में शामिल नहाने, कपड़ा धोने का साबुन, टूथ पेस्ट और नूडल्स की कीमतों भी इजाफा हुआ है।

यह भी पढ़े : इन राशियों पर रहेगी देवगुरु बृहस्पति की कृपा, अगले 7 माह तक ये राशि वाले रहेंगे मौज में


हिन्दुस्तान यूनिलीवर ने फरवरी के मुकाबले अपने उत्पाद नहाने के साबुन पीयर्स के कीमतों में 9 फीसदी जबकि फेस वाश में 3-4 फीसदी की बढ़ोतरी की है। वहीं रिन डिटर्जेंट बार की कीमत में 5-13 फीसदी जबकि डिटर्जेंट पाउडर 2-8 फीसदी महंगा हो गया है।

यह भी पढ़े : Horoscope today 20 May: इन राशि वालों के धन-धान में होगी बढ़ोतरी, कन्या वाले आज कोई फैसला लेने में सतर्क रहें


आईटीसी ने फियामा साबुन के दाम को 11 फीसदी तक बढ़ा दिया है। सिन्थाल साबुन की कीमत 5-24 फीसदी बढ़ा दी है। पतंजलि ने भी साबुन की कीमतों में इजाफा किया है।

टूथपेस्ट की कीमत भी बढ़ी : कोलगेट टूथपेस्ट की कीमतों में 2-18 फीसदी और डाबर के क्लोजअप, बबूल की कीमतों में 4-9 फीसदी का इजाफा हुआ है। चीनी की कीमतों में लगभग 1 फीसदी, गेहूं में 4 फीसदी वहीं जौ की कीमतों में लगभग 21 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है।

यह भी पढ़े : Virat Kohli ने खेली 73 रनों की ताबड़तोड़ पारी, फॉर्म में लौटते ही बोले , टी20 वर्ल्‍ड कप जीतना चाहता हूं

देश में डेढ़ साल के भीतर घरेलू रसोई गैस की कीमत में डेढ़ गुना तक का इजाफा हुआ। दिसंबर 2020 में दिल्ली में रसोई गैस की कीमत 644 रुपये थी, जो अब बढ़कर 1003 रुपये हो गई है। 18 महीने में 359 रुपये यानी 55 फीसदी दाम बढ़े हैं। गुरुवार को 3.50 रुपये की बढ़ोतरी के साथ दिल्ली-मुंबई में सिलेंडर 1000 रुपये से अधिक का हो गया है।

तेल, मसालों की बढ़ती कीमतों ने बिगाड़ा बजट

घरेलू गैस के बाद अब खाद्य तेल और मसालों की कीमतों ने रसोई का बजट बिगाड़ दिया है। भारतीय उद्योग व्यापार मंडल के महामंत्री हेमंत गुप्ता का कहना है कि भारत में सालाना 225 लाख टन खाद्य तेल की खपत होती है, जिसमें से 150 लाख टन आयात होता है।

यह भी पढ़े : ज्ञानवापी मस्जिद मामले के बाद चर्चा में आया वजूखाना, क्या होता है वजूखाना? क्या करते हैं यहां


खाद्य तेल के दाम भी बढ़े

वैश्विक आपूर्ति शृंखला में अवरोध और इंडोनेशिया द्वारा पाम आयल पर प्रतिबंध के बाद देश में इसकी कीमतों में तेजी से उछाल आया है। सफोला तेल की कीमतों में 10-22 फीसदी वहीं अडानी फार्च्यून के तेल की कीमतों में 16 फीसदी का इजाफा हुआ है।

मसालों के दाम

2021    -   2022

लाल मिर्च 140 - 240

जीरा 160 - 250

अजवायन 170  - 260

घनिया 70-100 - 180

सौंफ 200 - 250

काली मिर्च 480 - 600