राज्य के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल के साथ हुई केंद्रीय गृह मंत्री की बैठक में राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत बांग्लादेश सीमा को जल्द ही सील कर दिया जाएगा। बांग्लादेश से लगती असम के कछार, करीमगंज और धुबड़ी जिले की सीमा को भी जल्द ही सील करने का काम पूरा कर लिया जाएगा।


यह जानकारी राजनाथ सिंह के साथ बुधवार को हुई बैठक के बाद सोनोवाल ने दी. उन्होंने एनआरसी के सम्बन्ध में अफवाहों को भी ख़ारिज कर दिया और सरकार का बचाव करते हुए कहा कि एनआरसी में जो भी चल रहा अहइ वह उच्चतम न्यालय के निर्देशों के तहत हो रहा है।


गृह मंत्रालय में दोनों नेताओं की बैठक के बाद मुख्यमंत्री सोनोवाल ने कहा कि भारत बांग्लादेश सीमा पार तारबंदी कार्य प्रधानमंत्री मोदी की दिशा निर्देश में चल रहा है और गृह मंत्री राजनाथ सिंह के साथ हुई बैठक के बाद उन्हें उम्मीद है कि जिस गति से कार्य चल जल्द ही उसे पूरा कर लिया जायेगा। बांग्लादेश से लगती राज्य के कछार, करीमगंज और धुबड़ी जिले की सीमा को भी जल्द ही सील करने का काम पूरा कर लिया जाएगा।


मुख्यमंत्री ने इस बात की जानकारी देते हुए कहा कि गृह मंत्री के साथ हुई बैठक में इस पर चर्चा हुई है और उन्होंने भरोसा दिया है कि जल्द ही इन सीमाओं को सील कर दिया जायेगा, गौरतलब है कि असम की 262 किलोमीटर लम्बी सीमा बांग्लादेश से लगी हुई है, जिसमें 208.85 किलोमीटर लम्बी सीमा को सील किया जा चुका है और अब साढ़े छह किलोमीटर लम्बी जमीं से जुडी सीमा पर बाद लगाई जनि बाकि है।


इसके अलावा शेष सीमा नदियों से जुडी हुई है जहां पर तारबंदी का कार्य बेहद कठिन है ऐसे जगहों पर भी सुरक्षा के लिए विशेष सीमा चौकसी बनाया जाना है। वहीँ राज्य में चल रही राष्ट्रिय नागरिकता पंजी(एनआरसी) के बारे में मुख्यमंत्री सोनोवाल ने कहा कि इस बारे में केंद्र और राज्य दोनों ही सरकार साथ मिलकर कार्य कर रही हैं अतः इस मामले में जो भी कदम उठाया जायेगा वह संवैधानिक तरीके से पूरा किया जायेगा।