भारतीय क्रिकेट टीम इस साल के अंत में ऑस्ट्रेलिया दौरा करने के लिए जरुरत पडऩे पर दो सप्ताह क्वारेंटीन में रह सकती है। भारतीय टीम को इस साल दिसंबर और जनवरी में ऑस्ट्रेलिया के साथ चार टेस्ट और तीन वनडे मैचों की सीरीज खेलनी है लेकिन कोरोना वायरस के खतरे के कारण इसके आयोजन पर अभी से खतरे के बादल मंडरा रहे हैं। यदि यह दौरा नहीं होता है तो क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया को 30 करोड़ ऑस्ट्रेलियाई डॉलर (करीब 19 करोड़ 60 लाख डॉलर) का भारी भरकम नुकसान हो सकता है।


ऑस्ट्रेलिया में सीए और सरकार के बीच भारतीय टीम के दौरे को लेकर प्रोटोकॉल के बारे में बातचीत चल रही है जबकि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) का कहना है कि टीम इंडिया जरुरत पडऩे पर दो सप्ताह क्वारेंटीन में रह सकती है। इस सप्ताह की शुरुआत में ऑस्ट्रेलिया के खेल मंत्री रिचर्ड कॉलबेक ने साल के अंत तक अंतरराष्ट्रीय खेल के आयोजन को लेकर सकारात्मक संदेश दिया था।


इस बीच एक विकल्प यह भी है कि भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया में आने के बाद दौरा शुरु करने से पहले दो सप्ताह तक क्वारेंटीन में रहे। बीसीसीआई के कोषाध्यक्ष धूमल ने सिडनी मॉर्निंग हेराल्ड से कहा, 'कोई विकल्प नहीं है, सभी को ऐसा करना होगा। आप भी क्रिकेट को दोबारा शुरु करना चाहते हैं। दो सप्ताह तक लॉकडाउन में रहना बहुत अधिक समय नहीं है।'


धूमल ने कहा, 'यह किसी भी खिलाड़ी के लिए गलत नहीं होगा क्योंकि इतनी लंबी अवधि के लिए लॉकडाउन में रहने के बाद दूसरे देश में जाकर दो सप्ताह के लिए लॉकडाउन में रहना मुश्किल नहीं होगा। हमें यह देखना होगा कि इस लॉकडाउन के मानदंड क्या हैं।'